har qadam par ham samjhte the ki manzil aa gai | हर क़दम पर हम समझते थे कि मंज़िल आ गई - Hafeez Hoshiarpuri

har qadam par ham samjhte the ki manzil aa gai
har qadam par ik nayi darpaish mushkil aa gai

ya khala par hukmraan ya khaak ke andar nihaan
zindagi dat kar anaasir ke muqaabil aa gai

badh raha hai dam-b-dam subh-e-haqeeqat ka yaqeen
har nafs par ye gumaan hota hai manzil aa gai

tootte jaate hain rishte jodta jaata hoon main
ek mushkil kam hui aur ek mushkil aa gai

haal-e-dil hai koi khwaab-aavar fasana to nahin
neend abhi se tum ko ai yaaraan-e-mehfil aa gai

हर क़दम पर हम समझते थे कि मंज़िल आ गई
हर क़दम पर इक नई दरपेश मुश्किल आ गई

या ख़ला पर हुक्मराँ या ख़ाक के अंदर निहाँ
ज़िंदगी डट कर अनासिर के मुक़ाबिल आ गई

बढ़ रहा है दम-ब-दम सुब्ह-ए-हक़ीक़त का यक़ीं
हर नफ़स पर ये गुमाँ होता है मंज़िल आ गई

टूटते जाते हैं रिश्ते जोड़ता जाता हूँ मैं
एक मुश्किल कम हुई और एक मुश्किल आ गई

हाल-ए-दिल है कोई ख़्वाब-आवर फ़साना तो नहीं
नींद अभी से तुम को ऐ यारान-ए-महफ़िल आ गई

- Hafeez Hoshiarpuri
0 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Hoshiarpuri

As you were reading Shayari by Hafeez Hoshiarpuri

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Hoshiarpuri

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari