nargis pe to ilzaam laga be-basri ka | नर्गिस पे तो इल्ज़ाम लगा बे-बसरी का - Hafeez Hoshiarpuri

nargis pe to ilzaam laga be-basri ka
arbab-e-gulistaan pe nahin kam-nazri ka

taufiq-e-rifaqat nahin un ko sar-e-manzil
raaste mein jinhen paas raha ham-safari ka

ab khaanka o madrasa o may-kada hain ek
ik silsila hai qaafila-e-be-khabari ka

har naqsh hai aaina-e-nairang-e-tamaasha
duniya hai ki haasil meri hairaan-nazri ka

ab farsh se ta-arsh zaboon-haal hai fitrat
ik m'arka dar-pesh hai azm-e-bashri ka

kab milti hai ye daulat-e-bedaar kisi ko
aur main hoon ki rona hai isee deeda-wari ka

be-vaasta-e-ishq bhi rang-e-rukh-e-parwez
unwaan hai farhaad ki khooni-jigari ka

aakhir tire dar pe mujhe le aayi mohabbat
dekha na gaya haal meri dar-badri ka

dil mein ho faqat tum hi tum aankhon pe na jaao
aankhon ko to hai rog pareshaan-nazri ka

be-pairavi-e-'meer hafiz apni ravish hai
ham par koi ilzaam nahin kam-hunri ka

नर्गिस पे तो इल्ज़ाम लगा बे-बसरी का
अरबाब-ए-गुलिस्ताँ पे नहीं कम-नज़री का

तौफ़ीक़-ए-रिफ़ाक़त नहीं उन को सर-ए-मंज़िल
रस्ते में जिन्हें पास रहा हम-सफ़री का

अब ख़ानका ओ मदरसा ओ मय-कदा हैं एक
इक सिलसिला है क़ाफ़िला-ए-बे-ख़बरी का

हर नक़्श है आईना-ए-नैरंग-ए-तमाशा
दुनिया है कि हासिल मिरी हैराँ-नज़री का

अब फ़र्श से ता-अर्श ज़बूँ-हाल है फ़ितरत
इक म'अरका दर-पेश है अज़्म-ए-बशरी का

कब मिलती है ये दौलत-ए-बेदार किसी को
और मैं हूँ कि रोना है इसी दीदा-वरी का

बे-वासता-ए-इश्क़ भी रंग-ए-रुख़-ए-परवेज़
उनवान है फ़रहाद की ख़ूनीं-जिगरी का

आख़िर तिरे दर पे मुझे ले आई मोहब्बत
देखा न गया हाल मिरी दर-बदरी का

दिल में हो फ़क़त तुम ही तुम आँखों पे न जाओ
आँखों को तो है रोग परेशाँ-नज़री का

बे-पैरवी-ए-'मीर' 'हफ़ीज़' अपनी रविश है
हम पर कोई इल्ज़ाम नहीं कम-हुनरी का

- Hafeez Hoshiarpuri
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Hoshiarpuri

As you were reading Shayari by Hafeez Hoshiarpuri

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Hoshiarpuri

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari