na pooch kyun meri aankhon mein aa gaye aansu | न पूछ क्यूँ मिरी आँखों में आ गए आँसू - Hafeez Hoshiarpuri

na pooch kyun meri aankhon mein aa gaye aansu
jo tere dil mein hai us baat par nahin aaye

wafa-e-ahd hai ye paa-shikastagi to nahin
thehar gaya ki mere hum-safar nahin aaye

na chhed un ko khuda ke liye ki ahl-e-wafa
bhatk gaye hain to phir raah par nahin aaye

abhi abhi vo gaye hain magar ye aalam hai
bahut dinon se vo jaise nazar nahin aaye

kahi ye tark-e-mohabbat ki ibtida to nahin
vo mujh ko yaad kabhi is qadar nahin aaye

ajeeb manzil-e-dilkash adam ki manzil hai
musaafiraan-e-adam laut kar nahin aaye

hafiz kab unhen dekha nahin b-rang-e-digar
hafiz kab vo b-rang-e-digar nahin aaye

न पूछ क्यूँ मिरी आँखों में आ गए आँसू
जो तेरे दिल में है उस बात पर नहीं आए

वफ़ा-ए-अहद है ये पा-शिकस्तगी तो नहीं
ठहर गया कि मिरे हम-सफ़र नहीं आए

न छेड़ उन को ख़ुदा के लिए कि अहल-ए-वफ़ा
भटक गए हैं तो फिर राह पर नहीं आए

अभी अभी वो गए हैं मगर ये आलम है
बहुत दिनों से वो जैसे नज़र नहीं आए

कहीं ये तर्क-ए-मोहब्बत की इब्तिदा तो नहीं
वो मुझ को याद कभी इस क़दर नहीं आए

अजीब मंज़िल-ए-दिलकश अदम की मंज़िल है
मुसाफ़िरान-ए-अदम लौट कर नहीं आए

हफ़ीज़ कब उन्हें देखा नहीं ब-रंग-ए-दिगर
'हफ़ीज़' कब वो ब-रंग-ए-दिगर नहीं आए

- Hafeez Hoshiarpuri
1 Like

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Hoshiarpuri

As you were reading Shayari by Hafeez Hoshiarpuri

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Hoshiarpuri

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari