lafz abhi ijaad honge har zaroorat ke liye | लफ़्ज़ अभी ईजाद होंगे हर ज़रूरत के लिए - Hafeez Hoshiarpuri

lafz abhi ijaad honge har zaroorat ke liye
sharh-e-raahat ke liye gham ki saraahat ke liye

ab mera chup-chaap rahna amr-e-majboori sahi
main ne khuli hi zabaan kab thi shikaayat ke liye

mere chashm-o-gosh-o-lab se pooch lo sab kuchh yahin
mujh ko mere saamne laao shahaadat ke liye

sakht-koshi sakht-jaani ki taraf laai mujhe
mujh ko ye furqat ghaneemat hai alaalat ke liye

oxygen se shabistaan-e-anaasir tabaanaak
muztarib har zee-nafs us ki rifaqat ke liye

mar gaye kuchh log jeene ka mudaava soch kar
aur kuchh jeete rahe jeene ki aadat ke liye

aah marg-e-aadmi par aadmi roye bahut
koi bhi roya na marg-e-aadmiyat ke liye

koi mauqa zindagi ka aakhiri mauqa nahin
is qadar taajeel kyun raf-e-qudrat ke liye

istiqaamat ai mere dair-aashnaa-e-gham-gusaar
ek aansu hai bahut husn-e-nadaamat ke liye

koi naasir ki ghazal koi zafar ki may-tarang
chahiye kuchh to meri shaam-e-ayaadat ke liye

gulshan-aabaad-e-jahaan mein soorat-e-shabnam hafiz
ham agar roye bhi to rone ki furqat ke liye

लफ़्ज़ अभी ईजाद होंगे हर ज़रूरत के लिए
शरह-ए-राहत के लिए ग़म की सराहत के लिए

अब मिरा चुप-चाप रहना अम्र-ए-मजबूरी सही
मैं ने खोली ही ज़बाँ कब थी शिकायत के लिए

मेरे चश्म-ओ-गोश-ओ-लब से पूछ लो सब कुछ यहीं
मुझ को मेरे सामने लाओ शहादत के लिए

सख़्त-कोशी सख़्त-जानी की तरफ़ लाई मुझे
मुझ को ये फ़ुर्सत ग़नीमत है अलालत के लिए

ऑक्सीजन से शबिस्तान-ए-अनासिर ताबनाक
मुज़्तरिब हर ज़ी-नफ़स उस की रिफ़ाक़त के लिए

मर गए कुछ लोग जीने का मुदावा सोच कर
और कुछ जीते रहे जीने की आदत के लिए

आह मर्ग-ए-आदमी पर आदमी रोए बहुत
कोई भी रोया न मर्ग-ए-आदमियत के लिए

कोई मौक़ा ज़िंदगी का आख़िरी मौक़ा नहीं
इस क़दर ताजील क्यों रफ़-ए-कुदूरत के लिए

इस्तक़ामत ऐ मिरे दैर-आश्ना-ए-ग़म-गुसार
एक आँसू है बहुत हुस्न-ए-नदामत के लिए

कोई 'नासिर' की ग़ज़ल कोई ज़फ़र की मय-तरंग
चाहिए कुछ तो मिरी शाम-ए-अयादत के लिए

गुलशन-आबाद-ए-जहाँ में सूरत-ए-शबनम 'हफ़ीज़'
हम अगर रोए भी तो रोने की फ़ुर्सत के लिए

- Hafeez Hoshiarpuri
0 Likes

Emotional Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Hoshiarpuri

As you were reading Shayari by Hafeez Hoshiarpuri

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Hoshiarpuri

Similar Moods

As you were reading Emotional Shayari Shayari