ab to kuchh aur bhi andhera hai | अब तो कुछ और भी अंधेरा है - Hafeez Jalandhari

ab to kuchh aur bhi andhera hai
ye meri raat ka savera hai

rahzano se to bhag nikla tha
ab mujhe rahbaro'n ne ghera hai

aage aage chalo tabar waalo
abhi jungle bahut ghanera hai

qaafila kis ki pairavi mein chale
kaun sab se bada lutera hai

sar pe raahi ke sarbaraahi ne
kya safaai ka haath fera hai

surmaa-aalood khushk aansuon ne
noor-e-jan khaak par bikhra hai

raakh raakh ustukhwaan safed safed
yahi manzil yahi basera hai

ai meri jaan apne jee ke siva
kaun tera hai kaun mera hai

so raho ab hafiz jee tum bhi
ye nayi zindagi ka dera hai

अब तो कुछ और भी अंधेरा है
ये मिरी रात का सवेरा है

रहज़नों से तो भाग निकला था
अब मुझे रहबरों ने घेरा है

आगे आगे चलो तबर वालो
अभी जंगल बहुत घनेरा है

क़ाफ़िला किस की पैरवी में चले
कौन सब से बड़ा लुटेरा है

सर पे राही के सरबराही ने
क्या सफ़ाई का हाथ फेरा है

सुरमा-आलूद ख़ुश्क आँसुओं ने
नूर-ए-जाँ ख़ाक पर बिखेरा है

राख राख उस्तुख़्वाँ सफ़ेद सफ़ेद
यही मंज़िल यही बसेरा है

ऐ मिरी जान अपने जी के सिवा
कौन तेरा है कौन मेरा है

सो रहो अब 'हफ़ीज़' जी तुम भी
ये नई ज़िंदगी का डेरा है

- Hafeez Jalandhari
1 Like

Subah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Subah Shayari Shayari