zindagi ka lutf bhi aa jaayega | ज़िंदगी का लुत्फ़ भी आ जाएगा - Hafeez Jalandhari

zindagi ka lutf bhi aa jaayega
zindagaani hai to dekha jaayega

jis tarah lakdi ko kha jaata hai ghun
rafta rafta gham mujhe kha jaayega

hashr ke din meri chup ka maajra
kuchh na kuchh tum se bhi poocha jaayega

muskuraa kar munh chidaa kar ghur kar
ja rahe ho khair dekha jaayega

kar diya hai tum ne dil ko mutmain
dekh lena sakht ghabra jaayega

hazrat-e-dil kaam se jaaunga main
dil-lagi mein aap ka kya jaayega

doston ki bewafaai par hafiz
sabr karna bhi mujhe aa jaayega

ज़िंदगी का लुत्फ़ भी आ जाएगा
ज़िंदगानी है तो देखा जाएगा

जिस तरह लकड़ी को खा जाता है घुन
रफ़्ता रफ़्ता ग़म मुझे खा जाएगा

हश्र के दिन मेरी चुप का माजरा
कुछ न कुछ तुम से भी पूछा जाएगा

मुस्कुरा कर मुँह चिड़ा कर घूर कर
जा रहे हो ख़ैर देखा जाएगा

कर दिया है तुम ने दिल को मुतमइन
देख लेना सख़्त घबरा जाएगा

हज़रत-ए-दिल काम से जाऊँगा मैं
दिल-लगी में आप का क्या जाएगा

दोस्तों की बेवफ़ाई पर 'हफ़ीज़'
सब्र करना भी मुझे आ जाएगा

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari