hamein tum pe gumaan-e-wahshat tha ham logon ko rusva kiya tum ne | हमें तुम पे गुमान-ए-वहशत था हम लोगों को रुस्वा किया तुम ने - Ibn E Insha

hamein tum pe gumaan-e-wahshat tha ham logon ko rusva kiya tum ne
abhi fasl gulon ki nahin guzri kyun daaman-e-chaak siya tum ne

is shehar ke log bade hi sakhi bada maan karein darveshon ka
par tum se to itne barham hain kya aan ke maang liya tum ne

kin raahon se ho kar aayi ho kis gul ka sandesa laai ho
ham baagh mein khush khush baithe the kya kar diya aa ke saba tum ne

vo jo qais gareeb the un ka junoon sabhi kahte hain ham se raha hai fuzoon
hamein dekh ke hans to diya tum ne kabhi dekhe hain ahl-e-wafa tum ne

gham-e-ishq mein kaari dava na dua ye hai rog kathin ye hai dard bura
ham karte jo apne se ho saka kabhi ham se bhi kuchh na kaha tum ne

ab rah-rav-e-maanda se kuchh na kaho haan shaad raho aabaad raho
badi der se yaad kiya tum ne badi dard se di hai sada tum ne

ik baat kaheinge insha'-ji tumhein rekhta kahte umr hui
tum ek jahaan ka ilm parhe koi meer sa sher kaha tum ne

हमें तुम पे गुमान-ए-वहशत था हम लोगों को रुस्वा किया तुम ने
अभी फ़स्ल गुलों की नहीं गुज़री क्यूँ दामन-ए-चाक सिया तुम ने

इस शहर के लोग बड़े ही सख़ी बड़ा मान करें दरवेशों का
पर तुम से तो इतने बरहम हैं क्या आन के माँग लिया तुम ने

किन राहों से हो कर आई हो किस गुल का संदेसा लाई हो
हम बाग़ में ख़ुश ख़ुश बैठे थे क्या कर दिया आ के सबा तुम ने

वो जो क़ैस ग़रीब थे उन का जुनूँ सभी कहते हैं हम से रहा है फ़ुज़ूँ
हमें देख के हँस तो दिया तुम ने कभी देखे हैं अहल-ए-वफ़ा तुम ने

ग़म-ए-इश्क़ में कारी दवा न दुआ ये है रोग कठिन ये है दर्द बुरा
हम करते जो अपने से हो सकता कभी हम से भी कुछ न कहा तुम ने

अब रह-रव-ए-माँदा से कुछ न कहो हाँ शाद रहो आबाद रहो
बड़ी देर से याद किया तुम ने बड़ी दर्द से दी है सदा तुम ने

इक बात कहेंगे 'इंशा'-जी तुम्हें रेख़्ता कहते उम्र हुई
तुम एक जहाँ का इल्म पढ़े कोई 'मीर' सा शेर कहा तुम ने

- Ibn E Insha
0 Likes

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari