kis ko paar utaara tum ne kis ko paar utaaroge | किस को पार उतारा तुम ने किस को पार उतारोगे - Ibn E Insha

kis ko paar utaara tum ne kis ko paar utaaroge
mallaaho tum pardesi ko beech bhanwar mein maaroge

munh dekhe ki meethi baatein sunte itni umr hui
aankh se ojhal hote hote jee se humein bisaaroge

aaj to hum ko paagal kah lo patthar fenko tanj karo
ishq ki baazi khel nahin hai kheloge to haaroge

ahl-e-wafa se tark-e-taalluq kar lo par ik baat kahein
kal tum in ko yaad karoge kal tum inhen pukaaroge

un se hum se pyaar ka rishta ai dil chhodo bhool chuko
waqt ne sab kuch met diya hai ab kya naqsh ubbharoge

insha ko kisi soch mein doobe dar par baithe der hui
kab tak us ke bakht ke badle apne baal sanwaaroge

किस को पार उतारा तुम ने किस को पार उतारोगे
मल्लाहो तुम परदेसी को बीच भँवर में मारोगे

मुँह देखे की मीठी बातें सुनते इतनी उम्र हुई
आँख से ओझल होते होते जी से हमें बिसारोगे

आज तो हम को पागल कह लो पत्थर फेंको तंज़ करो
इश्क़ की बाज़ी खेल नहीं है खेलोगे तो हारोगे

अहल-ए-वफ़ा से तर्क-ए-तअल्लुक़ कर लो पर इक बात कहें
कल तुम इन को याद करोगे कल तुम इन्हें पुकारोगे

उन से हम से प्यार का रिश्ता ऐ दिल छोड़ो भूल चुको
वक़्त ने सब कुछ मेट दिया है अब क्या नक़्श उभारोगे

'इंशा' को किसी सोच में डूबे दर पर बैठे देर हुई
कब तक उस के बख़्त के बदले अपने बाल सँवारोगे

- Ibn E Insha
0 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari