kal chaudahveen ki raat thi shab bhar raha charcha tira | कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा - Ibn E Insha

kal chaudahveen ki raat thi shab bhar raha charcha tira
kuchh ne kaha ye chaand hai kuchh ne kaha chehra tira

ham bhi wahin maujood the ham se bhi sab poocha kiye
ham hans diye ham chup rahe manzoor tha parda tira

is shehar mein kis se milen ham se to chhootiin mahfilein
har shakhs tera naam le har shakhs deewaana tira

kooche ko tere chhod kar jogi hi ban jaayen magar
jungle tire parbat tire basti tiri sehra tira

ham aur rasm-e-bandagi aashuftagi uftaadagi
ehsaan hai kya kya tira ai husn-e-be-parwa tira

do ashk jaane kis liye palkon pe aa kar tik gaye
altaaf ki baarish tiri ikraam ka dariya tira

ai be-daregh o be-amaan ham ne kabhi ki hai fugaan
ham ko tiri vehshat sahi ham ko sahi sauda tira

ham par ye sakhti ki nazar ham hain faqeer-e-rahguzar
rasta kabhi roka tira daaman kabhi thaama tira

haan haan tiri soorat haseen lekin tu aisa bhi nahin
ik shakhs ke ashaar se shohra hua kya kya tira

bedard sunni ho to chal kehta hai kya achhi ghazal
aashiq tira rusva tira shaair tira insha tira

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा
कुछ ने कहा ये चाँद है कुछ ने कहा चेहरा तिरा

हम भी वहीं मौजूद थे हम से भी सब पूछा किए
हम हँस दिए हम चुप रहे मंज़ूर था पर्दा तिरा

इस शहर में किस से मिलें हम से तो छूटीं महफ़िलें
हर शख़्स तेरा नाम ले हर शख़्स दीवाना तिरा

कूचे को तेरे छोड़ कर जोगी ही बन जाएँ मगर
जंगल तिरे पर्बत तिरे बस्ती तिरी सहरा तिरा

हम और रस्म-ए-बंदगी आशुफ़्तगी उफ़्तादगी
एहसान है क्या क्या तिरा ऐ हुस्न-ए-बे-परवा तिरा

दो अश्क जाने किस लिए पलकों पे आ कर टिक गए
अल्ताफ़ की बारिश तिरी इकराम का दरिया तिरा

ऐ बे-दरेग़ ओ बे-अमाँ हम ने कभी की है फ़ुग़ाँ
हम को तिरी वहशत सही हम को सही सौदा तिरा

हम पर ये सख़्ती की नज़र हम हैं फ़क़ीर-ए-रहगुज़र
रस्ता कभी रोका तिरा दामन कभी थामा तिरा

हाँ हाँ तिरी सूरत हसीं लेकिन तू ऐसा भी नहीं
इक शख़्स के अशआ'र से शोहरा हुआ क्या क्या तिरा

बेदर्द सुननी हो तो चल कहता है क्या अच्छी ग़ज़ल
आशिक़ तिरा रुस्वा तिरा शाइर तिरा 'इंशा' तिरा

- Ibn E Insha
3 Likes

Khamoshi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Khamoshi Shayari Shayari