insaani darinde aur is aasaani se mar jaayen | इंसानी दरिंदे और इस आसानी से मर जाएँ - Idris Babar

insaani darinde aur is aasaani se mar jaayen
ye sochne baitheen to pareshaani se mar jaayen

vo jin ko mayassar thi har ik cheez-e-digar bhi
mumkin hai suhoolat ki faraavani se mar jaayen

kashti pe the kashti ko jalate hue hazaaraat
ab aag se bach jaayen bhale paani se mar jaayen

aaine ka ye kaun sa season hai hamein kya
deewaar ko takte hue hairaani se mar jaayen

babar koi jazbaati cronos se ye pooche
kis khaate mein ham aap ki nadaani se mar jaayen

ai dost mukammal nazar-andaaz hi kar dekh
aisa na ho ham neem nigahbaani se mar jaayen

bach jaayen to aakhir kise kya farq padega
dushman na sahi dost pashemaani se mar jaayen

aankhon mein utarte hue itraayein sitaare
suraj hon to jal kar tiri peshaani se mar jaayen

raanjhe ko to phir heer ki tasveer bahut hai
jee karta tha lag kar usi marjaani se mar jaayen

इंसानी दरिंदे और इस आसानी से मर जाएँ
ये सोचने बैठें तो परेशानी से मर जाएँ

वो जिन को मयस्सर थी हर इक चीज़-ए-दिगर भी
मुमकिन है सुहूलत की फ़रावानी से मर जाएँ

कश्ती पे थे कश्ती को जलाते हुए हज़रात
अब आग से बच जाएँ भले पानी से मर जाएँ

आईने का ये कौन सा सीज़न है हमें क्या
दीवार को तकते हुए हैरानी से मर जाएँ

'बाबर' कोई जज़्बाती क्रोनों से ये पूछे
किस खाते में हम आप की नादानी से मर जाएँ

ऐ दोस्त मुकम्मल नज़र-अंदाज़ ही कर देख
ऐसा न हो हम नीम निगहबानी से मर जाएँ

बच जाएँ तो आख़िर किसे क्या फ़र्क़ पड़ेगा
दुश्मन न सही दोस्त पशेमानी से मर जाएँ

आँखों में उतरते हुए इतराएँ सितारे
सूरज हों तो जल कर तिरी पेशानी से मर जाएँ

राँझे को तो फिर हीर की तस्वीर बहुत है
जी करता था लग कर उसी मरजानी से मर जाएँ

- Idris Babar
2 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari