jaan hum tujh pe diya karte hain | जान हम तुझ पे दिया करते हैं - Imam Bakhsh Nasikh

jaan hum tujh pe diya karte hain
naam tera hi liya karte hain

chaak karne ke liye ai naaseh
hum garebaan siya karte hain

sagar-e-chashm se hum baada-parast
may-e-deedaar piya karte hain

zindagi zinda-dili ka hai naam
murda-dil khaak jiya karte hain

sang-e-aswad bhi hai bhari patthar
log jo choom liya karte hain

kal na dega koi mitti bhi unhen
aaj zar jo ki diya karte hain

dafn mehboob jahaan hain naasikh
qabren hum choom liya karte hain

जान हम तुझ पे दिया करते हैं
नाम तेरा ही लिया करते हैं

चाक करने के लिए ऐ नासेह
हम गरेबान सिया करते हैं

साग़र-ए-चश्म से हम बादा-परस्त
मय-ए-दीदार पिया करते हैं

ज़िंदगी ज़िंदा-दिली का है नाम
मुर्दा-दिल ख़ाक जिया करते हैं

संग-ए-असवद भी है भारी पत्थर
लोग जो चूम लिया करते हैं

कल न देगा कोई मिट्टी भी उन्हें
आज ज़र जो कि दिया करते हैं

दफ़्न महबूब जहाँ हैं 'नासिख़'
क़ब्रें हम चूम लिया करते हैं

- Imam Bakhsh Nasikh
1 Like

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Imam Bakhsh Nasikh

As you were reading Shayari by Imam Bakhsh Nasikh

Similar Writers

our suggestion based on Imam Bakhsh Nasikh

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari