ufuq agarche pighlata dikhaai padta hai | उफ़ुक़ अगरचे पिघलता दिखाई पड़ता है - Jaan Nisar Akhtar

ufuq agarche pighlata dikhaai padta hai
mujhe to door savera dikhaai padta hai

hamaare shehar mein be-chehra log baste hain
kabhi kabhi koi chehra dikhaai padta hai

chalo ki apni mohabbat sabhi ko baant aayein
har ek pyaar ka bhooka dikhaai padta hai

jo apni zaat se ik anjuman kaha jaaye
vo shakhs tak mujhe tanhaa dikhaai padta hai

na koi khwaab na koi khalish na koi khumaar
ye aadmi to adhoora dikhaai padta hai

lachak rahi hain shuaaon ki seedhiyaan paiham
falak se koi utarta dikhaai padta hai

chamakti ret pe ye ghusl-e-aftaab tira
badan tamaam sunhara dikhaai padta hai

उफ़ुक़ अगरचे पिघलता दिखाई पड़ता है
मुझे तो दूर सवेरा दिखाई पड़ता है

हमारे शहर में बे-चेहरा लोग बसते हैं
कभी कभी कोई चेहरा दिखाई पड़ता है

चलो कि अपनी मोहब्बत सभी को बाँट आएँ
हर एक प्यार का भूका दिखाई पड़ता है

जो अपनी ज़ात से इक अंजुमन कहा जाए
वो शख़्स तक मुझे तन्हा दिखाई पड़ता है

न कोई ख़्वाब न कोई ख़लिश न कोई ख़ुमार
ये आदमी तो अधूरा दिखाई पड़ता है

लचक रही हैं शुआओं की सीढ़ियाँ पैहम
फ़लक से कोई उतरता दिखाई पड़ता है

चमकती रेत पे ये ग़ुस्ल-ए-आफ़्ताब तिरा
बदन तमाम सुनहरा दिखाई पड़ता है

- Jaan Nisar Akhtar
1 Like

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari