tu bhi chup hai main bhi chup hoon ye kaisi tanhaai hai | तू भी चुप है मैं भी चुप हूं ये कैसी तन्हाई है - Jaun Elia

tu bhi chup hai main bhi chup hoon ye kaisi tanhaai hai
tere saath tiri yaad aayi kya tu sach-much aayi hai

shaayad vo din pehla din tha palkein bojhal hone ka
mujh ko dekhte hi jab us ki angadaai sharmaai hai

us din pehli baar hua tha mujh ko rifaqat ka ehsaas
jab us ke malboos ki khushboo ghar pahunchaane aayi hai

hum ko aur to kuch nahin soojha albatta us ke dil mein
soz-e-raqabat paida kar ke us ki neend udaai hai

hum dono mil kar bhi dilon ki tanhaai mein bhatkenge
paagal kuch to soch ye tu ne kaisi shakl banaai hai

ishq-e-pechaanki sandal par jaane kis din bel chadhe
kyaari mein paani thehra hai deewaron par kaai hai

husn ke jaane kitne chehre husn ke jaane kitne naam
ishq ka pesha husn-parasti ishq bada harjaai hai

aaj bahut din baad main apne kamre tak aa nikla tha
joonhi darwaaza khola hai us ki khushboo aayi hao

ek to itna habs hai phir main saansen roke baitha hoon
veeraani ne jhaadoo de ke ghar mein dhool udaai hai

तू भी चुप है मैं भी चुप हूं ये कैसी तन्हाई है
तेरे साथ तिरी याद आई क्या तू सच-मुच आई है

शायद वो दिन पहला दिन था पलकें बोझल होने का
मुझ को देखते ही जब उस की अंगड़ाई शर्माई है

उस दिन पहली बार हुआ था मुझ को रिफ़ाक़त का एहसास
जब उस के मल्बूस की ख़ुश्बू घर पहुंचाने आई है

हम को और तो कुछ नहीं सूझा अलबत्ता उस के दिल में
सोज़-ए-रक़ाबत पैदा कर के उस की नींद उड़ाई है

हम दोनों मिल कर भी दिलों की तन्हाई में भटकेंगे
पागल कुछ तो सोच ये तू ने कैसी शक्ल बनाई है

इशक़-ए-पेचांकी संदल पर जाने किस दिन बेल चढ़े
क्यारी में पानी ठहरा है दीवारों पर काई है

हुस्न के जाने कितने चेहरे हुस्न के जाने कितने नाम
इश्क़ का पेशा हुस्न-परस्ती इश्क़ बड़ा हरजाई है

आज बहुत दिन बाद मैं अपने कमरे तक आ निकला था
जूंही दरवाज़ा खोला है उस की ख़ुश्बू आई हैॉ

एक तो इतना हब्स है फिर मैं सांसें रोके बैठा हूं
वीरानी ने झाड़ू दे के घर में धूल उड़ाई है

- Jaun Elia
17 Likes

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari