ik pal ghamon ka dariya ik pal khushi ka dariya | इक पल ग़मों का दरिया, इक पल ख़ुशी का दरिया - Javed Akhtar

ik pal ghamon ka dariya ik pal khushi ka dariya
rookta nahin kabhi bhi ye zindagi ka dariya

aankhen theen vo kisi ki ya khwaab ki zanjeeren
awaaz thi kisi ki ya raagini ka dariya

is dil ki vaadiyon mein ab khaak ud rahi hai
bahta yahin tha pehle ik aashiqi ka dariya

kirnon mein hain ye lahren ya lehron mein hain kirnen
dariya ki chaandni hai ya chaandni ka dariya

इक पल ग़मों का दरिया, इक पल ख़ुशी का दरिया
रूकता नहीं कभी भी, ये ज़िन्‍दगी का दरिया

आँखें थीं वो किसी की, या ख़्वाब की ज़ंजीरें
आवाज़ थी किसी की या रागिनी का दरिया

इस दिल की वादियों में, अब खाक उड़ रही है
बहता यहीं था पहले, इक आशिक़ी का दरिया

किरनों में हैं ये लहरें, या लहरों में हैं किरनें
दरिया की चाँदनी है, या चाँदनी का दरिया

- Javed Akhtar
2 Likes

Protest Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Protest Shayari Shayari