main chahta hoon ki dil mein tira khayal na ho | मैं चाहता हूँ कि दिल में तिरा ख़याल न हो - Jawwad Sheikh

main chahta hoon ki dil mein tira khayal na ho
ajab nahin ki meri zindagi vabaal na ho

main chahta hoon tu yak-dam hi chhod jaaye mujhe
ye har ghadi tire jaane ka ehtimaal na ho

main chahta hoon mohabbat pe ab ki baar aaye
zawaal aisa ki jis ko kabhi zawaal na ho

main chahta hoon mohabbat sire se mit jaaye
main chahta hoon use sochna muhaal na ho

main chahta hoon mohabbat mujhe fana kar de
fana bhi aisa ki jis ki koi misaal na ho

main chahta hoon mohabbat mera vo haal kare
ki khwaab mein bhi dobara kabhi majaal na ho

main chahta hoon ki itna hi rabt rah jaaye
vo yaad aaye magar bhoolna muhaal na ho

main chahta hoon meri aankhen noch li jaayen
tira khayal kisi taur paayemaal na ho

main chahta hoon ki main zakham zakham ho jaaun
aur is tarah ki kabhi khauf-e-indimaal na ho

meri misaal ho sab ki nigaah mein javvaad
main chahta hoon kisi aur ka ye haal na ho

मैं चाहता हूँ कि दिल में तिरा ख़याल न हो
अजब नहीं कि मिरी ज़िंदगी वबाल न हो

मैं चाहता हूँ तू यक-दम ही छोड़ जाए मुझे
ये हर घड़ी तिरे जाने का एहतिमाल न हो

मैं चाहता हूँ मोहब्बत पे अब की बार आए
ज़वाल ऐसा कि जिस को कभी ज़वाल न हो

मैं चाहता हूँ मोहब्बत सिरे से मिट जाए
मैं चाहता हूँ उसे सोचना मुहाल न हो

मैं चाहता हूँ मोहब्बत मुझे फ़ना कर दे
फ़ना भी ऐसा कि जिस की कोई मिसाल न हो

मैं चाहता हूँ मोहब्बत मिरा वो हाल करे
कि ख़्वाब में भी दोबारा कभी मजाल न हो

मैं चाहता हूँ कि इतना ही रब्त रह जाए
वो याद आए मगर भूलना मुहाल न हो

मैं चाहता हूँ मिरी आँखें नोच ली जाएँ
तिरा ख़याल किसी तौर पाएमाल न हो

मैं चाहता हूँ कि मैं ज़ख़्म ज़ख़्म हो जाऊँ
और इस तरह कि कभी ख़ौफ़-ए-इंदिमाल न हो

मिरी मिसाल हो सब की निगाह में 'जव्वाद'
मैं चाहता हूँ किसी और का ये हाल न हो

- Jawwad Sheikh
10 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari