mere hawas pe haavi rahi koi koi baat | मिरे हवास पे हावी रही कोई कोई बात - Jawwad Sheikh

mere hawas pe haavi rahi koi koi baat
ki zindagi se siva khaas thi koi koi baat

ye aur baat ki mehsoos tak na hone doon
jakad si leti hai dil ko tiri koi koi baat

koi bhi tujh sa mujhe hoo-b-hoo kahi na mila
kisi kisi mein agarche mili koi koi baat

khushi hui ki mulaqaat raayegaan na gai
use bhi meri tarah yaad thi koi koi baat

badan mein zahar ke maanind phail jaati hai
dilon mein khauf se sahmi hui koi koi baat

kabhi samajh nahin paaye ki us mein kya hai magar
chali to aise ki bas chal padi koi koi baat

vazaahaton mein uljh kar yahi khila javvaad
zaroori hai ki rahe an-kahi koi koi baat

मिरे हवास पे हावी रही कोई कोई बात
कि ज़िंदगी से सिवा ख़ास थी कोई कोई बात

ये और बात कि महसूस तक न होने दूँ
जकड़ सी लेती है दिल को तिरी कोई कोई बात

कोई भी तुझ सा मुझे हू-ब-हू कहीं न मिला
किसी किसी में अगरचे मिली कोई कोई बात

ख़ुशी हुई कि मुलाक़ात राएगाँ न गई
उसे भी मेरी तरह याद थी कोई कोई बात

बदन में ज़हर के मानिंद फैल जाती है
दिलों में ख़ौफ़ से सहमी हुई कोई कोई बात

कभी समझ नहीं पाए कि उस में क्या है मगर
चली तो ऐसे कि बस चल पड़ी कोई कोई बात

वज़ाहतों में उलझ कर यही खिला 'जव्वाद'
ज़रूरी है कि रहे अन-कही कोई कोई बात

- Jawwad Sheikh
11 Likes

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari