karega kya koi mere gale-sade aansu | करेगा क्या कोई मेरे गले-सड़े आँसू - Jawwad Sheikh

karega kya koi mere gale-sade aansu
to kyun na sookh hi jaayen pade pade aansu

jo yaad aayein to dil gham se fatne lagta hai
kisi aziz ki palkon mein vo jade aansu

hua main apni tahee-damani se sharminda
kisi ki aankhon mein the ye bade bade aansu

khizaan mein patte bhi aise kahaan jhade honge
hamaari aankhon se jun hijr mein jhade aansu

main is khayal se jaate hue use na mila
ki rok len na kahi saamne khade aansu

kisi ne ek taraf mar ke bhi gila na kiya
kisi ne dekhte hi dekhte ghade aansu

mahaarat aisi ki bas dekhte hi rah jaao
nikaalta hai koi yun khade khade aansu

tumhein kaha na ki bas ho gaye juda ham log
ukhaadte ho miyaan kis liye gadde aansu

magar jo zabt ne toofaan khade kiye ab ke
tamaam umr bahaaya kiye bade aansu

ajab gudaaz tabeeyat hai aap ki javvaad
zara si baat hui aur chhalk pade aansu

करेगा क्या कोई मेरे गले-सड़े आँसू
तो क्यूँ न सूख ही जाएँ पड़े पड़े आँसू

जो याद आएँ तो दिल ग़म से फटने लगता है
किसी अज़ीज़ की पलकों में वो जड़े आँसू

हुआ मैं अपनी तही-दामनी से शर्मिंदा
किसी की आँखों में थे ये बड़े बड़े आँसू

ख़िज़ाँ में पत्ते भी ऐसे कहाँ झड़े होंगे
हमारी आँखों से जूँ हिज्र में झड़े आँसू

मैं इस ख़याल से जाते हुए उसे न मिला
कि रोक लें न कहीं सामने खड़े आँसू

किसी ने एक तरफ़ मर के भी गिला न किया
किसी ने देखते ही देखते घड़े आँसू

महारत ऐसी कि बस देखते ही रह जाओ
निकालता है कोई यूँ खड़े खड़े आँसू

तुम्हें कहा ना कि बस हो गए जुदा हम लोग
उखाड़ते हो मियाँ किस लिए गड़े आँसू

मगर जो ज़ब्त ने तूफ़ाँ खड़े किए अब के
तमाम उम्र बहाया किए बड़े आँसू

अजब गुदाज़ तबीअत है आप की 'जव्वाद'
ज़रा सी बात हुई और छलक पड़े आँसू

- Jawwad Sheikh
13 Likes

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari