ye vaham jaane mere dil se kyun nikal nahin raha | ये वहम जाने मेरे दिल से क्यूँ निकल नहीं रहा - Jawwad Sheikh

ye vaham jaane mere dil se kyun nikal nahin raha
ki us ka bhi meri tarah se jee sambhal nahin raha

koi varq dikha jo ashk-e-khoon se tar-b-tar na ho
koi ghazal dikha jahaan vo daagh jal nahin raha

main ek hijr-e-be-muraad jhelta hoon raat din
jo aise sabr ki tarah hai jis ka fal nahin raha

to ab mere tamaam ranj mustaqil rahenge kya
to kya tumhaari khaamoshi ka koi hal nahin raha

kaddi masaafton ne kis ke paanv shal nahin kiye
koi dikhaao jo bichhad ke haath mal nahin raha

ये वहम जाने मेरे दिल से क्यूँ निकल नहीं रहा
कि उस का भी मिरी तरह से जी सँभल नहीं रहा

कोई वरक़ दिखा जो अश्क-ए-ख़ूँ से तर-ब-तर न हो
कोई ग़ज़ल दिखा जहाँ वो दाग़ जल नहीं रहा

मैं एक हिज्र-ए-बे-मुराद झेलता हूँ रात दिन
जो ऐसे सब्र की तरह है जिस का फल नहीं रहा

तो अब मिरे तमाम रंज मुस्तक़िल रहेंगे क्या?
तो क्या तुम्हारी ख़ामुशी का कोई हल नहीं रहा?

कड़ी मसाफ़तों ने किस के पाँव शल नहीं किए?
कोई दिखाओ जो बिछड़ के हाथ मल नहीं रहा

- Jawwad Sheikh
7 Likes

Sabr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Sabr Shayari Shayari