bekasi hai aur dil naashaad hai | बेकसी है और दिल नाशाद है - Kaleem Aajiz

bekasi hai aur dil naashaad hai
ab inheen dono se ghar aabaad hai

ab unhin ki fikr mein sayyaad hai
jin ke nagmon se chaman aabaad hai

jo mujhe barbaad kar ke shaad hai
us sitamgar ko mubaarakbaad hai

tum ne jo chaaha wahi ho kar raha
ye hamaari mukhtasar roodaad hai

ham ne tum se rakh ke ummeed-e-karam
vo sabq seekha ki ab tak yaad hai

bebaasi ban kar na tapke aankh se
dil mein jo ik hasrat-e-fariyaad hai

बेकसी है और दिल नाशाद है
अब इन्हीं दोनों से घर आबाद है

अब उन्हीं की फ़िक्र में सय्याद है
जिन के नग़्मों से चमन आबाद है

जो मुझे बर्बाद कर के शाद है
उस सितमगर को मुबारकबाद है

तुम ने जो चाहा वही हो कर रहा
ये हमारी मुख़्तसर रूदाद है

हम ने तुम से रख के उम्मीद-ए-करम
वो सबक़ सीखा कि अब तक याद है

बेबसी बन कर न टपके आँख से
दिल में जो इक हसरत-ए-फ़रियाद है

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari