talkhiyaan is mein bahut kuchh hain maza kuchh bhi nahin | तल्ख़ियाँ इस में बहुत कुछ हैं मज़ा कुछ भी नहीं - Kaleem Aajiz

talkhiyaan is mein bahut kuchh hain maza kuchh bhi nahin
zindagi dard-e-mohabbat ke siva kuchh bhi nahin

sham'a khaamosh bhi rahte hue khaamosh kahaan
is tarah kah diya sab kuchh ki kaha kuchh bhi nahin

ham gadaayaan-e-mohabbat ka yahi sab kuchh hai
garche duniya yahi kahti hai wafa kuchh bhi nahin

ye naya tarz-e-karam hai tira ai fasl-e-bahaar
le liya paas mein jo kuchh tha diya kuchh bhi nahin

ham ko ma'aloom na tha pehle ye aaeen-e-jahaan
us ko dete hain saza jis ki khata kuchh bhi nahin

wahi aahen wahi aansu ke do qatre aajiz
kya tiri shaay'ri mein in ke siva kuchh bhi nahin

तल्ख़ियाँ इस में बहुत कुछ हैं मज़ा कुछ भी नहीं
ज़िंदगी दर्द-ए-मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

शम्अ' ख़ामोश भी रहते हुए ख़ामोश कहाँ
इस तरह कह दिया सब कुछ कि कहा कुछ भी नहीं

हम गदायान-ए-मोहब्बत का यही सब कुछ है
गरचे दुनिया यही कहती है वफ़ा कुछ भी नहीं

ये नया तर्ज़-ए-करम है तिरा ऐ फ़स्ल-ए-बहार
ले लिया पास में जो कुछ था दिया कुछ भी नहीं

हम को मा'लूम न था पहले ये आईन-ए-जहाँ
उस को देते हैं सज़ा जिस की ख़ता कुछ भी नहीं

वही आहें वही आँसू के दो क़तरे 'आजिज़'
क्या तिरी शाइ'री में इन के सिवा कुछ भी नहीं

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari