badi talab thi bada intizaar dekho to | बड़ी तलब थी बड़ा इंतिज़ार देखो तो - Kaleem Aajiz

badi talab thi bada intizaar dekho to
bahaar laai hai kaisi bahaar dekho to

ye kya hua ki salaamat nahin koi daaman
chaman mein phool khile hain ki khaar dekho to

lahu dilon ka charaagon mein kal bhi jalta tha
aur aaj bhi hai wahi kaarobaar dekho to

yahan har ik rasn-o-daar hi dikhaata hai
ajeeb shehar ajeeb shehryaar dekho to

na koi shaana bacha hai na koi aaina
daraaz-dasti-e-gesoo-e-yaar dekho to

kisi se pyaar nahin phir bhi pyaar hai sab se
vo mast-e-husn hai kya hoshiyaar dekho to

vo chup bhi baithe hai to aisa ban ke baithe hai
har ik ada ye kahe hai pukaar dekho to

abhi to khoon ka sindoor hi lagaaya hai
abhi kare hai vo kya kya singaar dekho to

ada humeen ne sikhaai nazar humeen ne di
humeen se aankh churaao ho yaar dekho to

aseer kar ke hamein kya phire hai itraata
gale mein dale vo phoolon ka haar dekho to

बड़ी तलब थी बड़ा इंतिज़ार देखो तो
बहार लाई है कैसी बहार देखो तो

ये क्या हुआ कि सलामत नहीं कोई दामन
चमन में फूल खिले हैं कि ख़ार देखो तो

लहू दिलों का चराग़ों में कल भी जलता था
और आज भी है वही कारोबार देखो तो

यहाँ हर इक रसन-ओ-दार ही दिखाता है
अजीब शहर अजीब शहरयार देखो तो

न कोई शाना बचा है न कोई आईना
दराज़-दस्ती-ए-गेसू-ए-यार देखो तो

किसी से प्यार नहीं फिर भी प्यार है सब से
वो मस्त-ए-हुस्न है क्या होशियार देखो तो

वो चुप भी बैठे है तो ऐसा बन के बैठे है
हर इक अदा ये कहे है पुकार देखो तो

अभी तो ख़ून का सिन्दूर ही लगाया है
अभी करे है वो क्या क्या सिंगार देखो तो

अदा हमीं ने सिखाई नज़र हमीं ने दी
हमीं से आँख चुराओ हो यार देखो तो

असीर कर के हमें क्या फिरे है इतराता
गले में डाले वो फूलों का हार देखो तो

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari