tujhe sang-dil ye pata hai kya ki dukhe dilon ki sada hai kya | तुझे संग-दिल ये पता है क्या कि दुखे दिलों की सदा है क्या - Kaleem Aajiz

tujhe sang-dil ye pata hai kya ki dukhe dilon ki sada hai kya
kabhi chot tu ne bhi khaai hai kabhi tera dil bhi dukha hai kya

tu raees-e-shahr-e-sitam-garaan main gada-e-koocha-e-aashiqan
tu ameer hai to bata mujhe main gareeb hoon to bura hai kya

tu jafaa mein mast hai roz-o-shab main kafan-b-dosh ghazal-b-lab
tire rob-e-husn se chup hain sab main bhi chup rahoon to maza hai kya

ye kahaan se aayi hai surkh-roo hai har ek jhonka lahu lahu
kati jis mein gardan-e-aarzoo ye usi chaman ki hawa hai kya

तुझे संग-दिल ये पता है क्या कि दुखे दिलों की सदा है क्या
कभी चोट तू ने भी खाई है कभी तेरा दिल भी दुखा है क्या

तू रईस-ए-शहर-ए-सितम-गराँ मैं गदा-ए-कूचा-ए-आशिक़ाँ
तू अमीर है तो बता मुझे मैं ग़रीब हूँ तो बुरा है क्या

तू जफ़ा में मस्त है रोज़-ओ-शब मैं कफ़न-ब-दोश ग़ज़ल-ब-लब
तिरे रोब-ए-हुस्न से चुप हैं सब मैं भी चुप रहूँ तो मज़ा है क्या

ये कहाँ से आई है सुर्ख़-रू है हर एक झोंका लहू लहू
कटी जिस में गर्दन-ए-आरज़ू ये उसी चमन की हवा है क्या

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Hawa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Hawa Shayari Shayari