meri shaayeri mein na raqs-e-jaam na may ki rang-fishaaniyaa | मिरी शाएरी में न रक़्स-ए-जाम न मय की रंग-फ़िशानियाँ - Kaleem Aajiz

meri shaayeri mein na raqs-e-jaam na may ki rang-fishaaniyaa
wahi dukh-bharon ki hikaayaten wahi dil-jalon ki kahaaniyaan

ye jo aah-o-naala-o-dard hain kisi bewafa ki nishaaniyaan
yahi mere din ke rafeeq hain yahi meri raat ki raaniyaan

ye meri zabaan pe ghazal nahin main suna raha hoon kahaaniyaan
ki kisi ke ahad-e-shabaab par mittiin kaisi kaisi javaaniyaan

kabhi aansuon ko sukha gaeein mere soz-e-dil ki haraaratein
kabhi dil ki naav dubo gaeein mere aansuon ki ravaaniyaan

abhi us ko is ki khabar kahaan ki qadam kahaan hai nazar kahaan
abhi maslahat ka guzar kahaan ki nayi nayi hain javaaniyaan

ye bayaan-e-haal ye guftugoo hai mera nichoda hua lahu
abhi sun lo mujh se ki phir kabhu na sunoge aisi kahaaniyaan

मिरी शाएरी में न रक़्स-ए-जाम न मय की रंग-फ़िशानियाँ
वही दुख-भरों की हिकायतें वही दिल-जलों की कहानियाँ

ये जो आह-ओ-नाला-ओ-दर्द हैं किसी बेवफ़ा की निशानियाँ
यही मेरे दिन के रफ़ीक़ हैं यही मेरी रात की रानियाँ

ये मिरी ज़बाँ पे ग़ज़ल नहीं मैं सुना रहा हूँ कहानियाँ
कि किसी के अहद-ए-शबाब पर मिटीं कैसी कैसी जवानियाँ

कभी आँसुओं को सुखा गईं मिरे सोज़-ए-दिल की हरारतें
कभी दिल की नाव डुबो गईं मिरे आँसुओं की रवानियाँ

अभी उस को इस की ख़बर कहाँ कि क़दम कहाँ है नज़र कहाँ
अभी मस्लहत का गुज़र कहाँ कि नई नई हैं जवानियाँ

ये बयान-ए-हाल ये गुफ़्तुगू है मिरा निचोड़ा हुआ लहू
अभी सुन लो मुझ से कि फिर कभू न सुनोगे ऐसी कहानियाँ

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Bewafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Bewafa Shayari Shayari