har kadam par jo itna rote ho | हर कदम पर जो इतना रोते हो - Khalid Nadeem Shani

har kadam par jo itna rote ho
kis tamannaa ka bojh dhote ho

har kisi se gurez kya matlab
aaj kal kis hawa mein hote ho

iska matlab hai dekh li duniya
baat karne se pehle rote ho

chaand par ja basoge kya tum sab
nafratein is qadar jo bote ho

ye khudaai sift bhi hai tum mein
door rah kar qareeb hote ho

tum aziyat pasand ho khalid
apne ashqon se zakhm dhote hi

हर कदम पर जो इतना रोते हो
किस तमन्ना का बोझ ढोते हो

हर किसी से गुरेज क्या मतलब
आज कल किस हवा में होते हो

इसका मतलब है देख ली दुनिया
बात करने से पहले रोते हो

चाँद पर जा बसोगे क्या तुम सब
नफ़रतें इस क़दर जो बोते हो

ये ख़ुदाई सिफ़त भी है तुम में
दूर रह कर क़रीब होते हो

तुम अज़ीयत पसन्द हो 'खालिद'
अपने अश्क़ों से ज़ख्म धोते ही

- Khalid Nadeem Shani
14 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Khalid Nadeem Shani

As you were reading Shayari by Khalid Nadeem Shani

Similar Writers

our suggestion based on Khalid Nadeem Shani

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari