saanche mein ham ne aur ke dhalne nahin diya | साँचे में हम ने और के ढलने नहीं दिया - Kunwar Bechain

saanche mein ham ne aur ke dhalne nahin diya
dil mom ka tha phir bhi pighalne nahin diya

haathon ki ot de ke jala leen hatheliyaan
ai sham'a tujh ko ham ne machalne nahin diya

duniya ne bahut chaaha ki dil jaanwar bane
main ne hi us ko jism badlne nahin diya

zid ye thi vo jalega tumhaare hi haath se
us zid ne ek charaagh ko jalne nahin diya

chehre ko aaj tak bhi tera intizaar hai
ham ne gulaal aur ko malne nahin diya

baahar ki thokron se to bach kar nikal gaye
paanv ko apni moch ne chalne nahin diya

साँचे में हम ने और के ढलने नहीं दिया
दिल मोम का था फिर भी पिघलने नहीं दिया

हाथों की ओट दे के जला लीं हथेलियाँ
ऐ शम्अ' तुझ को हम ने मचलने नहीं दिया

दुनिया ने बहुत चाहा कि दिल जानवर बने
मैं ने ही उस को जिस्म बदलने नहीं दिया

ज़िद ये थी वो जलेगा तुम्हारे ही हाथ से
उस ज़िद ने एक चराग़ को जलने नहीं दिया

चेहरे को आज तक भी तेरा इंतिज़ार है
हम ने गुलाल और को मलने नहीं दिया

बाहर की ठोकरों से तो बच कर निकल गए
पाँव को अपनी मोच ने चलने नहीं दिया

- Kunwar Bechain
4 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kunwar Bechain

As you were reading Shayari by Kunwar Bechain

Similar Writers

our suggestion based on Kunwar Bechain

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari