bachi hai raushni jo bhi charaagon se nikal jaaye | बची है रौशनी जो भी चराग़ों से निकल जाए - Kushal Dauneria

bachi hai raushni jo bhi charaagon se nikal jaaye
jo mere dil se nikla hai duaon se nikal jaaye

ham aise log jo dushman ke rone par thehar jaayen
vo aisa shakhs jo apnon ki laashon se nikal jaaye

padaane ka agar matlab hai haathon se nikal jaana
khudaaya phir meri beti bhi haathon se nikal jaaye

wahi ik shakhs tha mera yahan par jee lagaane ko
usi ko chahte the sab ki gaav se nikal jaaye

idhar to choo rahi hai jism mera thande haathon se
udhar vo chahti hai raat baaton se nikal jaaye

numaish baap ki daulat ki kar ke sochta tha main
ki shaayad imtihaan-e-ishq paison se nikal jaaye

बची है रौशनी जो भी चराग़ों से निकल जाए
जो मेरे दिल से निकला है दुआओं से निकल जाए

हम ऐसे लोग जो दुश्मन के रोने पर ठहर जाएँ
वो ऐसा शख़्स जो अपनों की लाशों से निकल जाए

पढ़ाने का अगर मतलब है हाथों से निकल जाना
ख़ुदाया फिर मिरी बेटी भी हाथों से निकल जाए

वही इक शख़्स था मेरा यहाँ पर जी लगाने को
उसी को चाहते थे सब कि गाँव से निकल जाए

इधर तो छू रही है जिस्म मेरा ठंडे हाथों से
उधर वो चाहती है रात बातों से निकल जाए

नुमाइश बाप की दौलत की कर के सोचता था मैं
कि शायद इम्तिहान-ए-इश्क़ पैसों से निकल जाए

- Kushal Dauneria
19 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kushal Dauneria

As you were reading Shayari by Kushal Dauneria

Similar Writers

our suggestion based on Kushal Dauneria

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari