haram mein muddaton dhoonda shivaalon mein fira barson | हरम में मुद्दतों ढूँडा शिवालों में फिरा बरसों - Lala Madhav Ram Jauhar

haram mein muddaton dhoonda shivaalon mein fira barson
talaash-e-yaar mein bhatka kiya main baar-ha barson

maheenon haath jode ki khushamad baar-ha barson
inhen jhagdon mein mujh ko ho gaye ai bewafa barson

maaz-allah is aazurdagi ka kya thikaana hai
jo poocha yaar se kab tak na bologe kaha barson

ghaneemat jaan jo din zindagi ke aish mein guzre
kisi ka bhi nahin rehta zamaana ek sa barson

wahin khoon-e-shaheed-e-naaz ab barbaad hota hai
raha ban kar jo tere haath mein rang-e-hina barson

hamaari be-qaraari ka zara tum ko na dhyaan aaya
maheenon muntazir rakha dikhaaya raasta barson

zamaane mein hamesha har maheene chaand hota hai
tira jalwa nazar aata nahin ai mahlaqa barson

wahin par le chali be-taabi-e-dil waah-ree qismat
fira ki sar patakti jis jagah meri dua barson

ada ho shukr kyoon-kar be-kasi o na-ummeedi ka
rahi hain saath furqat mein yahi do aashna barson

na aaya ek din bhi vo but-e-be-rehm ai jauhar
utha kar haath kaabe ki taraf maangi dua barson

हरम में मुद्दतों ढूँडा शिवालों में फिरा बरसों
तलाश-ए-यार में भटका किया मैं बार-हा बरसों

महीनों हाथ जोड़े की ख़ुशामद बार-हा बरसों
इन्हें झगड़ों में मुझ को हो गए ऐ बेवफ़ा बरसों

मआज़-अल्लाह इस आज़ुर्दगी का क्या ठिकाना है
जो पूछा यार से कब तक न बोलोगे कहा बरसों

ग़नीमत जान जो दिन ज़िंदगी के ऐश में गुज़रें
किसी का भी नहीं रहता ज़माना एक सा बरसों

वही ख़ून-ए-शहीद-ए-नाज़ अब बर्बाद होता है
रहा बन कर जो तेरे हाथ में रंग-ए-हिना बरसों

हमारी बे-क़रारी का ज़रा तुम को न ध्यान आया
महीनों मुंतज़िर रक्खा दिखाया रास्ता बरसों

ज़माने में हमेशा हर महीने चाँद होता है
तिरा जल्वा नज़र आता नहीं ऐ मह-लक़ा बरसों

वहीं पर ले चली बे-ताबी-ए-दिल वाह-री क़िस्मत
फिरा की सर पटकती जिस जगह मेरी दुआ बरसों

अदा हो शुक्र क्यूँ-कर बे-कसी ओ ना-उमीदी का
रही हैं साथ फ़ुर्क़त में यही दो आश्ना बरसों

न आया एक दिन भी वो बुत-ए-बे-रहम ऐ 'जौहर'
उठा कर हाथ काबे की तरफ़ माँगी दुआ बरसों

- Lala Madhav Ram Jauhar
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Lala Madhav Ram Jauhar

As you were reading Shayari by Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Writers

our suggestion based on Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari