paye-gul-gasht suna hai ki vo aaj aate hain | पए-गुल-गश्त सुना है कि वो आज आते हैं - Lala Madhav Ram Jauhar

paye-gul-gasht suna hai ki vo aaj aate hain
phoolon ki bhi ye khushi hai ki khile jaate hain

bahr-e-taskin-e-dil ahbaab ye farmaate hain
aap kahiye to abhi ja ke bula laate hain

gudgudi kar ke hansaate hain jo ghash mein ahbaab
kis ke roomaal se talve mere sahlaate hain

aap ke hote kisi aur ko chaahoon tauba
kis taraf dhyaan hai kya aap ye farmaate hain

meri hi jaan ke dushman hain naseehat waale
mujh ko samjhaate hain un ko nahin samjhaate hain

bulbulo baagh mein ghaafil na kahi ho jaana
har taraf ghaat mein sayyaad nazar aate hain

khoob pehchaan liya ham ne tumhein dil de kar
sach kaha hai ki jo khote hain wahi paate hain

mujh ko baawar nahin sach sach ye bata de hamdam
tu ne kis se ye suna hai ki vo aaj aate hain

kya dil o deeda bhi harkaare hain subhan-allah
laakh pardo mein koi ho ye khabar laate hain

dekh achha nahin jauhar kahi maail hona
jab bhi samjhaate the ab bhi tujhe samjhaate hain

पए-गुल-गश्त सुना है कि वो आज आते हैं
फूलों की भी ये ख़ुशी है कि खिले जाते हैं

बहर-ए-तस्कीन-ए-दिल अहबाब ये फ़रमाते हैं
आप कहिए तो अभी जा के बुला लाते हैं

गुदगुदी कर के हँसाते हैं जो ग़श में अहबाब
किस के रूमाल से तलवे मिरे सहलाते हैं

आप के होते किसी और को चाहूँ तौबा
किस तरफ़ ध्यान है क्या आप ये फ़रमाते हैं

मेरी ही जान के दुश्मन हैं नसीहत वाले
मुझ को समझाते हैं उन को नहीं समझाते हैं

बुलबुलो बाग़ में ग़ाफ़िल न कहीं हो जाना
हर तरफ़ घात में सय्याद नज़र आते हैं

ख़ूब पहचान लिया हम ने तुम्हें दिल दे कर
सच कहा है कि जो खोते हैं वही पाते हैं

मुझ को बावर नहीं सच सच ये बता दे हमदम
तू ने किस से ये सुना है कि वो आज आते हैं

क्या दिल ओ दीदा भी हरकारे हैं सुब्हान-अल्लाह
लाख पर्दों में कोई हो ये ख़बर लाते हैं

देख अच्छा नहीं 'जौहर' कहीं माइल होना
जब भी समझाते थे अब भी तुझे समझाते हैं

- Lala Madhav Ram Jauhar
0 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Lala Madhav Ram Jauhar

As you were reading Shayari by Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Writers

our suggestion based on Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari