dil ke teen aatish-e-hijraan se bachaaya na gaya | दिल के तीं आतिश-ए-हिज्राँ से बचाया न गया - Meer Taqi Meer

dil ke teen aatish-e-hijraan se bachaaya na gaya
ghar jala saamne par ham se bujhaaya na gaya

dil mein rah-e-dil mein ki me'maar-e-qaza se ab tak
aisa matboo-e-makaan koi banaya na gaya

kabhu aashiq ka tire jabhe se nakhun ka kharaash
khat-e-taqdeer ke maanind mitaaya na gaya

kya tunuk-hausla the deeda-o-dil apne aah
ek dam raaz-e-mohabbat ka chhupaaya na gaya

dil jo deedaar ka qaateel ke bahut bhooka tha
us sitam-kushta se ik zakham bhi khaaya na gaya

main to tha said-e-zaboon said-gah-e-ishq ke beech
aap ko khaak mein bhi khoob milaaya na gaya

shahr-e-dil-e-aah ajab jaaye thi par us ke gaye
aisa ujda ki kisi tarah basaaya na gaya

aaj rukti nahin khaame ki zabaan rakhiye mua'af
harf ka tool bhi jo mujh se ghataaya na gaya

दिल के तीं आतिश-ए-हिज्राँ से बचाया न गया
घर जला सामने पर हम से बुझाया न गया

दिल में रह-ए-दिल में कि मे'मार-ए-क़ज़ा से अब तक
ऐसा मतबू-ए-मकाँ कोई बनाया न गया

कभू आशिक़ का तिरे जबहे से नाख़ुन का ख़राश
ख़त-ए-तक़्दीर के मानिंद मिटाया न गया

क्या तुनुक-हौसला थे दीदा-ओ-दिल अपने आह
एक दम राज़-ए-मोहब्बत का छुपाया न गया

दिल जो दीदार का क़ातिल के बहुत भूका था
उस सितम-कुश्ता से इक ज़ख़्म भी खाया न गया

मैं तो था सैद-ए-ज़बूँ सैद-गह-ए-इश्क़ के बीच
आप को ख़ाक में भी ख़ूब मिलाया न गया

शहर-ए-दिल-ए-आह अजब जाए थी पर उस के गए
ऐसा उजड़ा कि किसी तरह बसाया न गया

आज रुकती नहीं ख़ामे की ज़बाँ रखिए मुआ'फ़
हर्फ़ का तूल भी जो मुझ से घटाया न गया

- Meer Taqi Meer
1 Like

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari