falak karne ke qaabil aasmaan hai | फ़लक करने के क़ाबिल आसमाँ है - Meer Taqi Meer

falak karne ke qaabil aasmaan hai
ki ye peeraana-sar jaahil jawaan hai

gaye un qaafilon se bhi uthi gard
hamaari khaak kya jaanen kahaan hai

bahut na-mehrabaan rehta hai yaani
hamaare haal par kuchh meherbaan hai

hamein jis jaaye kal ghash aa gaya tha
wahin shaayad ki us ka aastaan hai

mizaa har ik hai us ki tez naavak
khameeda bhau jo hai zoreen kamaan hai

use jab tak hai teer-andaazi ka shauq
zabooni par meri khaatir nishaan hai

chali jaati hai dharkon hi mein jaan bhi
yahin se kahte hain jaan ko ravaan hai

usi ka dam bhara karte rahenge
badan mein apne jab tak neem-jaan hai

pada hai phool ghar mein kahe ko meer
jhamak hai gul ki barq-e-aashiyaaan hai

फ़लक करने के क़ाबिल आसमाँ है
कि ये पीराना-सर जाहिल जवाँ है

गए उन क़ाफ़िलों से भी उठी गर्द
हमारी ख़ाक क्या जानें कहाँ है

बहुत ना-मेहरबाँ रहता है यानी
हमारे हाल पर कुछ मेहरबाँ है

हमें जिस जाए कल ग़श आ गया था
वहीं शायद कि उस का आस्ताँ है

मिज़ा हर इक है उस की तेज़ नावक
ख़मीदा भौं जो है ज़ोरीं कमाँ है

उसे जब तक है तीर-अंदाज़ी का शौक़
ज़बूनी पर मिरी ख़ातिर निशाँ है

चली जाती है धड़कों ही में जाँ भी
यहीं से कहते हैं जाँ को रवाँ है

उसी का दम भरा करते रहेंगे
बदन में अपने जब तक नीम-जाँ है

पड़ा है फूल घर में काहे को 'मीर'
झमक है गुल की बर्क़-ए-आशियाँ है

- Meer Taqi Meer
1 Like

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari