kya kya baithe bigad bigad tum par ham tum se banaaye gaye | क्या क्या बैठे बिगड़ बिगड़ तुम पर हम तुम से बनाए गए - Meer Taqi Meer

kya kya baithe bigad bigad tum par ham tum se banaaye gaye
chupke baatein uthaaye gaye sar gaade vo hain aaye gaye

utthe naqaab jahaan se yaarab jis se takalluf beech mein hai
jab nikle us raah se ho kar munh tum ham se chhupaaye gaye

kab kab tum ne sach nahin maani jhooti baatein ghairoon ki
tum ham ko yun hi jalaae gaye ve tum ko vo hain lagaaye gaye

subh vo aafat uth baitha tha tum ne na dekha sad afsos
kya kya fitne sar jode palkon ke saaye saaye gaye

allah re ye deeda-daraai hoon na muqaddar kyoonke ham
aankhen ham se milaaye gaye phir khaak mein ham ko milaaye gaye

aag mein gham ki ho ke gudaazaan jism hua sab paani sa
ya'ni bin in shola-rukhoon ke khoob hi ham bhi taae gaye

tukde tukde karne ki bhi had ek aakhir hoti hai
kushte us ki tegh-e-sitam ke gor tai kab laaye gaye

khizr jo mil jaata hai gahe aap ko bhoola khoob nahin
khoye gaye us raah ke warna kahe ko phir paaye gaye

marne se kya meer'-ji-sahab ham ko hosh the kya kariye
jee se haath uthaaye gaye par us se dil na uthaaye gaye

क्या क्या बैठे बिगड़ बिगड़ तुम पर हम तुम से बनाए गए
चुपके बातें उठाए गए सर गाड़े वो हैं आए गए

उट्ठे नक़ाब जहाँ से यारब जिस से तकल्लुफ़ बीच में है
जब निकले उस राह से हो कर मुँह तुम हम से छुपाए गए

कब कब तुम ने सच नहीं मानीं झूटी बातें ग़ैरों की
तुम हम को यूँ ही जलाए गए वे तुम को वो हैं लगाए गए

सुब्ह वो आफ़त उठ बैठा था तुम ने न देखा सद अफ़्सोस
क्या क्या फ़ित्ने सर जोड़े पलकों के साए साए गए

अल्लाह रे ये दीदा-दराई हूँ न मुकद्दर क्यूँके हम
आँखें हम से मिलाए गए फिर ख़ाक में हम को मिलाए गए

आग में ग़म की हो के गुदाज़ाँ जिस्म हुआ सब पानी सा
या'नी बिन इन शोला-रुख़ों के ख़ूब ही हम भी ताए गए

टुकड़े टुकड़े करने की भी हद एक आख़िर होती है
कुश्ते उस की तेग़-ए-सितम के गोर तईं कब लाए गए

ख़िज़्र जो मिल जाता है गाहे आप को भूला ख़ूब नहीं
खोए गए उस राह के वर्ना काहे को फिर पाए गए

मरने से क्या 'मीर'-जी-साहब हम को होश थे क्या करिए
जी से हाथ उठाए गए पर उस से दिल न उठाए गए

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari