makka gaya madeena gaya karbala gaya | मक्का गया मदीना गया कर्बला गया - Meer Taqi Meer

makka gaya madeena gaya karbala gaya
jaisa gaya tha waisa hi chal phir ke aa gaya

dekha ho kuchh us aamad-o-shud mein to main kahoon
khud gum hua hoon baat ki tah ab jo pa gaya

kapde gale ke mere na hon aab-deeda kyun
maanind-e-abr deeda-e-tar ab to chha gaya

jaan-soz aah o naala samajhta nahin hoon main
yak shola mere dil se utha tha jala gaya

vo mujh se bhaagta hi fira kibr-o-naaz se
jun jun niyaaz kar ke main us se laga gaya

jor-e-sephar-e-doon se bura haal tha bahut
main sharm-e-na-kasi se zameen mein samaa gaya

dekha jo raah jaate tabkhtur ke saath use
phir mujh shikasta-paa se na ik-dam raha gaya

baitha to boriye ke tai sar pe rakh ke meer
saf kis adab se ham fukraa ki utha gaya

मक्का गया मदीना गया कर्बला गया
जैसा गया था वैसा ही चल फिर के आ गया

देखा हो कुछ उस आमद-ओ-शुद में तो मैं कहूँ
ख़ुद गुम हुआ हूँ बात की तह अब जो पा गया

कपड़े गले के मेरे न हों आब-दीदा क्यूँ
मानिंद-ए-अब्र दीदा-ए-तर अब तो छा गया

जाँ-सोज़ आह ओ नाला समझता नहीं हूँ मैं
यक शो'ला मेरे दिल से उठा था जला गया

वो मुझ से भागता ही फिरा किब्र-ओ-नाज़ से
जूँ जूँ नियाज़ कर के मैं उस से लगा गया

जोर-ए-सिपहर-ए-दूँ से बुरा हाल था बहुत
मैं शर्म-ए-ना-कसी से ज़मीं में समा गया

देखा जो राह जाते तबख़्तुर के साथ उसे
फिर मुझ शिकस्ता-पा से न इक-दम रहा गया

बैठा तो बोरिए के तईं सर पे रख के 'मीर'
सफ़ किस अदब से हम फ़ुक़रा की उठा गया

- Meer Taqi Meer
3 Likes

Afsos Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Afsos Shayari Shayari