chalte ho to chaman ko chaliye kahte hain ki bahaaraan hai | चलते हो तो चमन को चलिए कहते हैं कि बहाराँ है - Meer Taqi Meer

chalte ho to chaman ko chaliye kahte hain ki bahaaraan hai
paat hare hain phool khile hain kam-kam baad-o-baraan hai

rang hawa se yun tapke hai jaise sharaab chuvaate hain
aage ho may-khaane ke niklo ahad-e-badaa-gusaaraan hai

ishq ke maidan-daaron mein bhi marne ka hai wasf bahut
ya'ni museebat aisi uthaana kaar-e-kaar-guzaaraan hai

dil hai daagh jigar hai tukde aansu saare khoon hue
lohoo paani ek kare ye ishq-e-laala-azaaraan hai

kohkan o majnoon ki khaatir dast-o-koh mein ham na gaye
ishq mein ham ko meer nihaayat paas-e-izzat-daaraan hai

चलते हो तो चमन को चलिए कहते हैं कि बहाराँ है
पात हरे हैं फूल खिले हैं कम-कम बाद-ओ-बाराँ है

रंग हवा से यूँ टपके है जैसे शराब चुवाते हैं
आगे हो मय-ख़ाने के निकलो अहद-ए-बादा-गुसाराँ है

इश्क़ के मैदाँ-दारों में भी मरने का है वस्फ़ बहुत
या'नी मुसीबत ऐसी उठाना कार-ए-कार-गुज़ाराँ है

दिल है दाग़ जिगर है टुकड़े आँसू सारे ख़ून हुए
लोहू पानी एक करे ये इश्क़-ए-लाला-अज़ाराँ है

कोहकन ओ मजनूँ की ख़ातिर दश्त-ओ-कोह में हम न गए
इश्क़ में हम को 'मीर' निहायत पास-ए-इज़्ज़त-दाराँ है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Festive Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Festive Shayari Shayari