har jazr-o-mad se dast-o-baghl uthte hain kharosh | हर जज़्र-ओ-मद से दस्त-ओ-बग़ल उठते हैं ख़रोश - Meer Taqi Meer

har jazr-o-mad se dast-o-baghl uthte hain kharosh
kis ka hai raaz bahar mein yaarab ki ye hain josh

abroo-e-kaj hai mauj koi chashm hai habaab
moti kisi ki baat hai seepi kisi ka gosh

un mugbachon ke kooche hi se main kya salaam
kya mujh ko tauf-e-kaaba se mein rind-e-dard-nosh

hairat se hove partav-e-mah noor aaina
tu chaandni mein nikle agar ho safeed-posh

kal ham ne sair-e-baagh mein dil haath se diya
ik saada gul-farosh ka aa kar sabd b-dosh

jaata raha nigaah se jun mausam-e-bahaar
aaj us baghair daag-e-jigar hain siyah-posh

shab is dil-girfta ko vaa kar b-zor-e-may
baithe the sheera-khaane mein ham kitne harza-kosh

aayi sada ki yaad karo door rafta ko
ibarat bhi hai zaroor tak ai jam'a tez hosh

jamshed jis ne waz'a kiya jaam kya hua
ve naseehaten kahaan gaeein kidhar ve naav-nosh

juz lala us ke jaam se paate nahin nishaan
hai koknaar us ki jagah ab suboo b-dosh

jhoome hai bed jaa-e-jawaanaan may-gusaar
baala-e-kham hai khisht sar pair may-farosh

meer is ghazal ko khoob kaha tha zameer ne
par ai zabaan-daraaz bahut ho chuki khamosh

हर जज़्र-ओ-मद से दस्त-ओ-बग़ल उठते हैं ख़रोश
किस का है राज़ बहर में यारब कि ये हैं जोश

अबरू-ए-कज है मौज कोई चश्म है हबाब
मोती किसी की बात है सीपी किसी का गोश

उन मुग़्बचों के कूचे ही से मैं क्या सलाम
क्या मुझ को तौफ़-ए-काबा से में रिंद-ए-दर्द-नोश

हैरत से होवे परतव-ए-मह नूर आईना
तू चाँदनी में निकले अगर हो सफ़ेद-पोश

कल हम ने सैर-ए-बाग़ में दिल हाथ से दिया
इक सादा गुल-फ़रोश का आ कर सबद ब-दोश

जाता रहा निगाह से जूँ मौसम-ए-बहार
आज उस बग़ैर दाग़-ए-जिगर हैं सियाह-पोश

शब इस दिल-गिरफ़्ता को वा कर ब-ज़ोर-ए-मय
बैठे थे शीरा-ख़ाने में हम कितने हर्ज़ा-कोश

आई सदा कि याद करो दूर रफ़्ता को
इबरत भी है ज़रूर टक ऐ जम्अ' तेज़ होश

जमशेद जिस ने वज़्अ किया जाम क्या हुआ
वे नसीहतें कहाँ गईं कीधर वे नाव-नोश

जुज़ लाला उस के जाम से पाते नहीं निशाँ
है कोकनार उस की जगह अब सुबू ब-दोश

झूमे है बेद जा-ए-जवानान मय-गुसार
बाला-ए-ख़म है ख़िश्त सर पैर मय-फ़रोश

'मीर' इस ग़ज़ल को ख़ूब कहा था ज़मीर ने
पर ऐ ज़बाँ-दराज़ बहुत हो चुकी ख़मोश

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Taareef Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Taareef Shayari Shayari