aah aur ashk hi sada hai yaa | आह और अश्क ही सदा है याँ - Meer Taqi Meer

aah aur ashk hi sada hai yaa
roz barsaat ki hawa hai yaa

jis jagah ho zameen tafta samajh
ki koi dil-jala gada hai yaa

go kudoorat se vo na deve ro
aarsi ki tarah safa hai yaa

har ghadi dekhte jo ho idhar
aisa ki tum ne aa nikla hai yaa

rind muflis jigar mein aah nahin
jaan mahzoon hai aur kya hai yaa

kaise kaise makaan hain suthre
ik azaan jumla karbala hai yaa

ik siskata hai ek marta hai
har taraf zulm ho raha hai yaa

sad tamannaa shaheed hain yakja
seena-koobi hai ta'ziya hai yaa

deedaani hai garz ye sohbat shokh
roz-o-shab tarafaa maajra hai yaa

khaana-e-aashiqan hai jaa-e-khoob
jaaye rone ki jaa-b-jaa hai yaa

koh-o-sehra bhi kar na jaaye baash
aaj tak koi bhi raha hai yaa

hai khabar shart meer sunta hai
tujh se aage ye kuchh hua hai yaa

maut majnoon ko bhi yahin aayi
kohkan kal hi mar gaya hai yaa

आह और अश्क ही सदा है याँ
रोज़ बरसात की हवा है याँ

जिस जगह हो ज़मीन तफ़्ता समझ
कि कोई दिल-जला गड़ा है याँ

गो कुदूरत से वो न देवे रो
आरसी की तरह सफ़ा है याँ

हर घड़ी देखते जो हो ईधर
ऐसा कि तुम ने आ निकला है याँ

रिंद मुफ़्लिस जिगर में आह नहीं
जान महज़ूँ है और क्या है याँ

कैसे कैसे मकान हैं सुथरे
इक अज़ाँ जुमला कर्बला है याँ

इक सिसकता है एक मरता है
हर तरफ़ ज़ुल्म हो रहा है याँ

सद तमन्ना शहीद हैं यकजा
सीना-कूबी है ता'ज़िया है याँ

दीदनी है ग़रज़ ये सोहबत शोख़
रोज़-ओ-शब तरफ़ा माजरा है याँ

ख़ाना-ए-आशिक़ाँ है जा-ए-ख़ूब
जाए रोने की जा-ब-जा है याँ

कोह-ओ-सहरा भी कर न जाए बाश
आज तक कोई भी रहा है याँ

है ख़बर शर्त 'मीर' सुनता है
तुझ से आगे ये कुछ हुआ है याँ

मौत मजनूँ को भी यहीं आई
कोहकन कल ही मर गया है याँ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari