gaye jee se chhoote buton ki jafaa se | गए जी से छूटे बुतों की जफ़ा से - Meer Taqi Meer

gaye jee se chhoote buton ki jafaa se
yahi baat ham chahte the khuda se

vo apni hi khoobi pe rehta hai naazaan
maro ya jiyo koi us ki bala se

koi ham se khulte hain band us qaba ke
ye uqde khulenge kaso ki dua se

pashemaan tauba se hoga adam mein
ki ghaafil chala shaikh lutf-e-hawaa se

na rakhi meri khaak bhi us gali mein
kudoorat mujhe hai nihaayat saba se

jigar-sooee-e-mizgaan khincha jaaye hai kuchh
magar deeda-e-tar hain lohoo ke pyaase

agar chashm hai to wahi ain haq hai
ta'assub tujhe hai ajab maa-siwaa se

tabeeb subuk-e-aql hargiz na samjha
hua dard-e-ishq aah doonaa dava se

tak ai muddai chashm-e-insaaf vaa kar
ki baithe hain ye qaafiye kis ada se

na shikwa shikaayat na harf-o-hikaayat
kaho meer jee aaj kyun ho khafa se

गए जी से छूटे बुतों की जफ़ा से
यही बात हम चाहते थे ख़ुदा से

वो अपनी ही ख़ूबी पे रहता है नाज़ाँ
मरो या जियो कोई उस की बला से

कोई हम से खुलते हैं बंद उस क़बा के
ये उक़्दे खुलेंगे कसो की दुआ से

पशेमान तौबा से होगा अदम में
कि ग़ाफ़िल चला शैख़ लुत्फ़-ए-हवा से

न रखी मिरी ख़ाक भी उस गली में
कुदूरत मुझे है निहायत सबा से

जिगर-सूई-ए-मिज़्गाँ खिंचा जाए है कुछ
मगर दीदा-ए-तर हैं लोहू के प्यासे

अगर चश्म है तो वही ऐन हक़ है
तअ'स्सुब तुझे है अजब मा-सिवा से

तबीब सुबुक-ए-अक़्ल हरगिज़ न समझा
हुआ दर्द-ए-इश्क़ आह दूना दवा से

टक ऐ मुद्दई' चश्म-ए-इंसाफ़ वा कर
कि बैठे हैं ये क़ाफ़िए किस अदा से

न शिकवा शिकायत न हर्फ़-ओ-हिकायत
कहो 'मीर' जी आज क्यूँ हो ख़फ़ा से

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Nazakat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Nazakat Shayari Shayari