mashhoor chaman mein tiri gul pairhani hai | मशहूर चमन में तिरी गुल पैरहनी है - Meer Taqi Meer

mashhoor chaman mein tiri gul pairhani hai
qurbaan tire har uzv pe naazuk-badani hai

uryaani-e-aashufta kahaan jaaye pas-az-marg
kushta hai tira aur yahi be-kafni hai

samjhe hai na parwaana na thaame hai zabaan sham'a
vo sokhtni hai to ye gardan-zadani hai

leta hi nikalta hai mera lakht-e-jigar ashk
aansu nahin goya ki ye heere ki kani hai

bulbul ki kaf-e-khaak bhi ab hogi pareshaan
jaame ka tire rang sitamgar chimni hai

kuchh to ubhar ai soorat-e-sheereen ki dikhaaun
farhaad ke zimme bhi ajab koh-kani hai

hon garm-e-safar shaam-e-ghareebaan se khushi hon
ai subh-e-watan tu to mujhe be-watani hai

har-chand gada hoon main tire ishq mein lekin
in bul-havason mein koi mujh sa bhi ghani hai

har ashk mera hai dur-e-shahwaar se behtar
har lakht-e-jigar rashk-e-aqeeq-e-yamni hai

bigdi hai nipt meer tapish aur jigar mein
shaayad ki mere jee hi par ab aan bani hai

मशहूर चमन में तिरी गुल पैरहनी है
क़ुर्बां तिरे हर उज़्व पे नाज़ुक-बदनी है

उर्यानी-ए-आशुफ़्ता कहाँ जाए पस-अज़-मर्ग
कुश्ता है तिरा और यही बे-कफ़नी है

समझे है न परवाना न थामे है ज़बाँ शम्अ'
वो सोख़्तनी है तो ये गर्दन-ज़दनी है

लेता ही निकलता है मिरा लख़्त-ए-जिगर अश्क
आँसू नहीं गोया कि ये हीरे की कनी है

बुलबुल की कफ़-ए-ख़ाक भी अब होगी परेशाँ
जामे का तिरे रंग सितमगर चिमनी है

कुछ तो उभर ऐ सूरत-ए-शीरीं कि दिखाऊँ
फ़रहाद के ज़िम्मे भी अजब कोह-कनी है

हों गर्म-ए-सफ़र शाम-ए-ग़रीबाँ से ख़ुशी हों
ऐ सुब्ह-ए-वतन तू तो मुझे बे-वतनी है

हर-चंद गदा हूँ मैं तिरे इश्क़ में लेकिन
इन बुल-हवसों में कोई मुझ सा भी ग़नी है

हर अश्क मिरा है दुर-ए-शहवार से बेहतर
हर लख़्त-ए-जिगर रश्क-ए-अक़ीक़-ए-यमनी है

बिगड़ी है निपट 'मीर' तपिश और जिगर में
शायद कि मिरे जी ही पर अब आन बनी है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari