jin jin ko tha ye ishq ka aazaar mar gaye | जिन जिन को था ये इश्क़ का आज़ार मर गए - Meer Taqi Meer

jin jin ko tha ye ishq ka aazaar mar gaye
akshar hamaare saath ke beemaar mar gaye

hota nahin hai us lab-e-nau-khat pe koi sabz
eesa o khizr kya sabhi yak-baar mar gaye

yun kaanon-kaan gul ne na jaana chaman mein aah
sar ko patak ke ham pas-e-deewaar mar gaye

sad kaarwaan wafa hai koi poochta nahin
goya mata-e-dil ke khareedaar mar gaye

majnoon na dasht mein hai na farhaad koh mein
tha jin se lutf-e-zindagi ve yaar mar gaye

gar zindagi yahi hai jo karte hain ham aseer
to ve hi jee gaye jo girftaar mar gaye

afsos ve shaheed ki jo qatl-gaah mein
lagte hi us ke haath ki talwaar mar gaye

tujh se do-chaar hone ki hasrat ke mubtila
jab jee hue vabaal to naachaar mar gaye

ghabra na meer ishq mein us sahl-e-zeest par
jab bas chala na kuchh to mere yaar mar gaye

जिन जिन को था ये इश्क़ का आज़ार मर गए
अक्सर हमारे साथ के बीमार मर गए

होता नहीं है उस लब-ए-नौ-ख़त पे कोई सब्ज़
ईसा ओ ख़िज़्र क्या सभी यक-बार मर गए

यूँ कानों-कान गुल ने न जाना चमन में आह
सर को पटक के हम पस-ए-दीवार मर गए

सद कारवाँ वफ़ा है कोई पूछता नहीं
गोया मता-ए-दिल के ख़रीदार मर गए

मजनूँ न दश्त में है न फ़रहाद कोह में
था जिन से लुत्फ़-ए-ज़िंदगी वे यार मर गए

गर ज़िंदगी यही है जो करते हैं हम असीर
तो वे ही जी गए जो गिरफ़्तार मर गए

अफ़्सोस वे शहीद कि जो क़त्ल-गाह में
लगते ही उस के हाथ की तलवार मर गए

तुझ से दो-चार होने की हसरत के मुब्तिला
जब जी हुए वबाल तो नाचार मर गए

घबरा न 'मीर' इश्क़ में उस सहल-ए-ज़ीस्त पर
जब बस चला न कुछ तो मिरे यार मर गए

- Meer Taqi Meer
1 Like

Rahbar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Rahbar Shayari Shayari