raftagaan mein jahaan ke ham bhi hain | रफ़्तगाँ में जहाँ के हम भी हैं - Meer Taqi Meer

raftagaan mein jahaan ke ham bhi hain
saath us kaarwaan ke ham bhi hain

sham'a hi sar na de gai barbaad
kushta apni zabaan ke ham bhi hain

ham ko majnoon ko ishq mein mat bujh
nang us khaandaan ke ham bhi hain

jis chaman-zaar ka hai tu gul-e-tar
bulbul is gulsitaan ke ham bhi hain

nahin majnoon se dil qavi lekin
yaar us na-tawan ke ham bhi hain

bosa mat de kisoo ke dar pe naseem
khaak us aastaan ke ham bhi hain

go shab us dar se door paharon phiren
paas to paasbaan ke ham bhi hain

vajh-e-begaangi nahin maaloom
tum jahaan ke ho waan ke ham bhi hain

mar gaye mar gaye nahin to nahin
khaak se munh ko dhaanke ham bhi hain

apna sheva nahin kajee yun to
yaar jee tedhe baanke ham bhi hain

is sire ki hai paarsaai meer
mo'taqid us jawaan ke ham bhi hain

रफ़्तगाँ में जहाँ के हम भी हैं
साथ उस कारवाँ के हम भी हैं

शम्अ ही सर न दे गई बर्बाद
कुश्ता अपनी ज़बाँ के हम भी हैं

हम को मजनूँ को इश्क़ में मत बूझ
नंग उस ख़ानदाँ के हम भी हैं

जिस चमन-ज़ार का है तू गुल-ए-तर
बुलबुल इस गुलसिताँ के हम भी हैं

नहीं मजनूँ से दिल क़वी लेकिन
यार उस ना-तवाँ के हम भी हैं

बोसा मत दे किसू के दर पे नसीम
ख़ाक उस आस्ताँ के हम भी हैं

गो शब उस दर से दूर पहरों फिरें
पास तो पासबाँ के हम भी हैं

वजह-ए-बेगानगी नहीं मालूम
तुम जहाँ के हो वाँ के हम भी हैं

मर गए मर गए नहीं तो नहीं
ख़ाक से मुँह को ढाँके हम भी हैं

अपना शेवा नहीं कजी यूँ तो
यार जी टेढ़े बाँके हम भी हैं

इस सिरे की है पारसाई 'मीर'
मो'तक़िद उस जवाँ के हम भी हैं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari