pusht-e-pa maari bas-ki duniya par | पुश्त-ए-पा मारी बस-कि दुनिया पर - Meer Taqi Meer

pusht-e-pa maari bas-ki duniya par
zakham pad pad gaya mere pa par

doobe uchhale hai aftaab hanooz
kahi dekha tha tujh ko dariya par

giro may hoon aao shaikh shehar
abr jhooma hi jahe sehra par

dil par khun to tha gulaabi sharaab
jee hi apna chala na sahaba par

yaa jahaan mein ki shehar-e-goraan hai
saath parde hain chashm-e-beena par

fursat-e-aish apni yun guzri
ki museebat padi tamannaa par

taarum-e-taak se lahu tapka
sang-baaraan hua hai meena par

meer kya baat us ke honton ki
jeena doobhar hua maseeha par

पुश्त-ए-पा मारी बस-कि दुनिया पर
ज़ख़्म पड़ पड़ गया मिरे पा पर

डूबे उछले है आफ़्ताब हनूज़
कहीं देखा था तुझ को दरिया पर

गिरो मय हूँ आओ शैख़ शहर
अब्र झूमा ही जाहे सहरा पर

दिल पर ख़ूँ तो था गुलाबी शराब
जी ही अपना चला न सहबा पर

याँ जहाँ में कि शहर-ए-गोराँ है
सात पर्दे हैं चश्म-ए-बीना पर

फ़ुर्सत-ए-ऐश अपनी यूँ गुज़री
कि मुसीबत पड़ी तमन्ना पर

तारुम-ए-ताक से लहू टपका
संग-बाराँ हुआ है मीना पर

'मीर' क्या बात उस के होंटों की
जीना दूभर हुआ मसीहा पर

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari