gul ko mehboob ham-qyaas kiya | गुल को महबूब हम-क़्यास किया - Meer Taqi Meer

gul ko mehboob ham-qyaas kiya
farq nikla bahut jo paas kiya

dil ne ham ko misaal-e-aainaa
ek aalam ka roo-shanaas kiya

kuchh nahin soojhtaa hamein us bin
shauq ne ham ko be-havaas kiya

ishq mein ham hue na deewane
qais ki aabroo ka paas kiya

daur se charkh ke nikal na sake
zof ne ham ko moortaas kiya

subh tak sham'a sar ko dhunti rahi
kya patinge ne iltimaas kiya

tujh se kya kya tavakkoen theen hamein
so tire zulm ne niraas kiya

aise wahshi kahaan hain ai khooban
meer ko tum abas udaas kiya

गुल को महबूब हम-क़्यास किया
फ़र्क़ निकला बहुत जो पास किया

दिल ने हम को मिसाल-ए-आईना
एक आलम का रू-शनास किया

कुछ नहीं सूझता हमें उस बिन
शौक़ ने हम को बे-हवास किया

इश्क़ में हम हुए न दीवाने
क़ैस की आबरू का पास किया

दौर से चर्ख़ के निकल न सके
ज़ोफ़ ने हम को मूरतास किया

सुब्ह तक शम्अ' सर को धुनती रही
क्या पतिंगे ने इल्तिमास किया

तुझ से क्या क्या तवक्क़ोएँ थीं हमें
सो तिरे ज़ुल्म ने निरास किया

ऐसे वहशी कहाँ हैं ऐ ख़ूबाँ
'मीर' को तुम अबस उदास किया

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari