joshish-e-ashk se hoon aath pahar paani mein | जोशिश-ए-अश्क से हूँ आठ पहर पानी में - Meer Taqi Meer

joshish-e-ashk se hoon aath pahar paani mein
garche hote hain bahut khauf-o-khatr paani mein

zabt-e-girya ne jalaya hai daroona saara
dil achambha hai ki hai sokhta-tar paani mein

aab-e-shamsheer-e-qayamat hai burinda us ki
ye gawaraai nahin paate hain har paani mein

tab-e-darya jo ho aashufta to phir toofaan hai
aah baalon ko paraaganda na kar paani mein

ghark aab-e-ashk se hoon lek uda jaata hoon
jun samak go ki mere doobe hain par paani mein

mardum-e-deeda-e-tar mardum-e-aabi hain magar
rahte hain roz o shab o shaam-o-sehar paani mein

haiat aankhon ki nahin vo rahi rote rote
ab to girdaab se aate hain nazar paani mein

giryaa-e-shab se bahut aankh dare hai meri
paanv rukte hi nahin baar-e-digar paani mein

fart-e-girya se hua meer tabaah apna jahaaz
takhta paare gaye kya jaanoon kidhar paani mein

जोशिश-ए-अश्क से हूँ आठ पहर पानी में
गरचे होते हैं बहुत ख़ौफ़-ओ-ख़तर पानी में

ज़ब्त-ए-गिर्या ने जलाया है दरूना सारा
दिल अचम्भा है कि है सोख़्ता-तर पानी में

आब-ए-शमशीर-ए-क़यामत है बुरिंदा उस की
ये गवाराई नहीं पाते हैं हर पानी में

तब-ए-दरिया जो हो आशुफ़्ता तो फिर तूफ़ाँ है
आह बालों को परागंदा न कर पानी में

ग़र्क़ आब-ए-अश्क से हूँ लेक उड़ा जाता हूँ
जूँ समक गो कि मिरे डूबे हैं पर पानी में

मर्दुम-ए-दीदा-ए-तर मर्दुम-ए-आबी हैं मगर
रहते हैं रोज़ ओ शब ओ शाम-ओ-सहर पानी में

हैअत आँखों की नहीं वो रही रोते रोते
अब तो गिर्दाब से आते हैं नज़र पानी में

गिर्या-ए-शब से बहुत आँख डरे है मेरी
पाँव रुकते ही नहीं बार-ए-दिगर पानी में

फ़र्त-ए-गिर्या से हुआ 'मीर' तबाह अपना जहाज़
तख़्ता पारे गए क्या जानूँ किधर पानी में

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari