mue sahte sahte jafaa-kaariyaan | मुए सहते सहते जफ़ा-कारियाँ - Meer Taqi Meer

mue sahte sahte jafaa-kaariyaan
koi ham se seekhe wafaadaariyaan

hamaari to guzri isee taur umr
yahi naala karna yahi zaariyan

farishta jahaan kaam karta na tha
meri aah ne barchiyaan maariyaan

gaya jaan se ik jahaan le ke shokh
na tujh se gaeein ye dil-aazaariyaan

kahaan tak ye takleef-e-ma la-yutaq
hui muddaton naaz-bardaariyaan

khat-o-kaakul-o-zulf-o-andaaz-o-naaz
hui daam-e-rah sad-giriftaariyaan

kiya dard-o-gham ne mujhe na-umeed
ki majnoon ko ye hi theen beemaariyaan

tiri aashnaai se hi had hui
bahut ki theen duniya mein ham yaariyaan

na bhaai hamaari to qudrat nahin
khinchiin meer tujh se hi ye khwaariyaan

मुए सहते सहते जफ़ा-कारियाँ
कोई हम से सीखे वफ़ादारियाँ

हमारी तो गुज़री इसी तौर उम्र
यही नाला करना यही ज़ारियाँ

फ़रिश्ता जहाँ काम करता न था
मिरी आह ने बर्छियाँ मारियाँ

गया जान से इक जहाँ ले के शोख़
न तुझ से गईं ये दिल-आज़ारियाँ

कहाँ तक ये तकलीफ़-ए-मा ला-युताक़
हुईं मुद्दतों नाज़-बर्दारियाँ

ख़त-ओ-काकुल-ओ-ज़ुल्फ़-ओ-अंदाज़-ओ-नाज़
हुईं दाम-ए-रह सद-गिरफ़्तारियाँ

किया दर्द-ओ-ग़म ने मुझे ना-उमीद
कि मजनूँ को ये ही थीं बीमारियाँ

तिरी आश्नाई से ही हद हुई
बहुत की थीं दुनिया में हम यारियाँ

न भाई हमारी तो क़ुदरत नहीं
खिंचीं 'मीर' तुझ से ही ये ख़्वारियाँ

- Meer Taqi Meer
1 Like

Dosti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dosti Shayari Shayari