mushkil hai hona roo-kush rukhsaar ki jhalak ke | मुश्किल है होना रू-कश रुख़्सार की झलक के - Meer Taqi Meer

mushkil hai hona roo-kush rukhsaar ki jhalak ke
ham to bashar hain us ja par julte hain malak ke

marta hai kyun to naahak yaari biraadari par
duniya ke saare naate hain jeete-ji tilak ke

kahte hain gor mein bhi hain teen roz bhari
jaaven kidhar ilaahi maare hue falak ke

laate nahin nazar mein gultaani guhar ko
ham mo'taqid hain apne aansu hi ki dhalak ke

kal ik mizaa nichod'e toofaan nooh aaya
fikr-e-fishaar mein hoon meer aaj har palak ke

मुश्किल है होना रू-कश रुख़्सार की झलक के
हम तो बशर हैं उस जा पर जुलते हैं मलक के

मरता है क्यूँ तो नाहक़ यारी बिरादरी पर
दुनिया के सारे नाते हैं जीते-जी तिलक के

कहते हैं गोर में भी हैं तीन रोज़ भारी
जावें किधर इलाही मारे हुए फ़लक के

लाते नहीं नज़र में गुलतानी गुहर को
हम मो'तक़िद हैं अपने आँसू ही की ढलक के

कल इक मिज़ा निचोड़े तूफ़ान नूह आया
फ़िक्र-ए-फ़िशार में हूँ 'मीर' आज हर पलक के

- Meer Taqi Meer
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari