guzar jaan se aur dar kuchh nahin | गुज़र जान से और डर कुछ नहीं - Meer Taqi Meer

guzar jaan se aur dar kuchh nahin
rah-e-ishq mein phir khatra kuchh nahin

hai ab kaam dil jis pe mauqoof to
vo naala ki jis mein asar kuchh nahin

hua maail us sarv ka dil mera
b-juz jor jis se samar kuchh nahin

na kar apne mahvon ka hargiz suraagh
gaye guzre bas ab khabar kuchh nahin

tiri ho chuki khushk mizgaan ki sab
lahu ab jigar mein magar kuchh nahin

haya se nahin pusht-e-pa par vo chashm
mera haal madd-e-nazar kuchh nahin

karoon kyoonke inkaar ishq aah mein
ye rona bhala kya hai gar kuchh nahin

kamar us ki rashk rag-e-jaan hai meer
garz is se baarik-tar kuchh nahin

गुज़र जान से और डर कुछ नहीं
रह-ए-इश्क़ में फिर ख़तर कुछ नहीं

है अब काम दिल जिस पे मौक़ूफ़ तो
वो नाला कि जिस में असर कुछ नहीं

हुआ माइल उस सर्व का दिल मिरा
ब-जुज़ जौर जिस से समर कुछ नहीं

न कर अपने महवों का हरगिज़ सुराग़
गए गुज़रे बस अब ख़बर कुछ नहीं

तिरी हो चुकी ख़ुश्क मिज़्गाँ की सब
लहू अब जिगर में मगर कुछ नहीं

हया से नहीं पुश्त-ए-पा पर वो चश्म
मिरा हाल मद्द-ए-नज़र कुछ नहीं

करूँ क्यूँके इंकार इश्क़ आह में
ये रोना भला क्या है गर कुछ नहीं

कमर उस की रश्क रग-ए-जाँ है 'मीर'
ग़रज़ इस से बारीक-तर कुछ नहीं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Sharm Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Sharm Shayari Shayari