kya muaafiq ho dava ishq ke beemaar ke saath | क्या मुआफ़िक़ हो दवा इश्क़ के बीमार के साथ - Meer Taqi Meer

kya muaafiq ho dava ishq ke beemaar ke saath
jee hi jaate nazar aaye hain is aazaar ke saath

raat majlis mein tiri ham bhi khade the chupke
jaise tasveer laga de koi deewaar ke saath

mar gaye par bhi khuli rah gaeein aankhen apni
kaun is tarah mua hasrat-e-deedaar ke saath

shauq ka kaam khincha door ki ab mehr misaal
chashm-e-mushtaqq lagi jaaye hai toomaar ke saath

raah us shokh ki aashiq se nahin ruk sakti
jaan jaati hai chali khoobi-e-raftaar ke saath

ve din ab saalte hain raaton ko barson guzre
jin dinon der raha karte the ham yaar ke saath

zikr-e-gul kya hai saba ab ki khizaan mein ham ne
dil ko naachaar lagaaya hai khas o khaar ke saath

kis ko har dam hai lahu rone ka hijraan mein dimaagh
dil ko ik rabt sa hai deedaa-e-khoon-baar ke saath

meri us shokh se sohbat hai be-ainihi waisi
jaise ban jaaye kisoo saade ko ayyaar ke saath

dekhiye kis ko shahaadat se sar-afraaz karein
laag to sab ko hai us shokh ki talwaar ke saath

bekli us ki na zaahir thi jo tu ai bulbul
damakash-e-'meer hui us lab o guftaar ke saath

क्या मुआफ़िक़ हो दवा इश्क़ के बीमार के साथ
जी ही जाते नज़र आए हैं इस आज़ार के साथ

रात मज्लिस में तिरी हम भी खड़े थे चुपके
जैसे तस्वीर लगा दे कोई दीवार के साथ

मर गए पर भी खुली रह गईं आँखें अपनी
कौन इस तरह मुआ हसरत-ए-दीदार के साथ

शौक़ का काम खिंचा दूर कि अब मेहर मिसाल
चश्म-ए-मुश्ताक़ लगी जाए है तूमार के साथ

राह उस शोख़ की आशिक़ से नहीं रुक सकती
जान जाती है चली ख़ूबी-ए-रफ़्तार के साथ

वे दिन अब सालते हैं रातों को बरसों गुज़रे
जिन दिनों देर रहा करते थे हम यार के साथ

ज़िक्र-ए-गुल क्या है सबा अब कि ख़िज़ाँ में हम ने
दिल को नाचार लगाया है ख़स ओ ख़ार के साथ

किस को हर दम है लहू रोने का हिज्राँ में दिमाग़
दिल को इक रब्त सा है दीदा-ए-ख़ूँ-बार के साथ

मेरी उस शोख़ से सोहबत है बे-ऐनिहि वैसी
जैसे बन जाए किसू सादे को अय्यार के साथ

देखिए किस को शहादत से सर-अफ़राज़ करें
लाग तो सब को है उस शोख़ की तलवार के साथ

बेकली उस की न ज़ाहिर थी जो तू ऐ बुलबुल
दमकश-ए-'मीर' हुई उस लब ओ गुफ़्तार के साथ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Rishta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Rishta Shayari Shayari