jis jagah daur-e-jaam hota hai | जिस जगह दौर-ए-जाम होता है - Meer Taqi Meer

jis jagah daur-e-jaam hota hai
waan ye aajiz mudaam hota hai

ham to ik harf ke nahin mamnoon
kaisa khatt-o-payaam hota hai

teg naakaamon pe na har dam kheench
ik karishme mein kaam hota hai

pooch mat aah aashiqon ki ma'aash
roz un ka bhi shaam hota hai

zakham bin gham bin aur gussa bin
apna khaana haraam hota hai

shaikh ki si hi shakl hai shaitaan
jis pe shab ehtelaam hota hai

qatl ko main kaha to uth bola
aaj kal subh-o-shaam hota hai

aakhir aaunga na'sh par ab aah
ki ye aashiq tamaam hota hai

meer sahab bhi us ke haan the par
jaise koi ghulaam hota hai

जिस जगह दौर-ए-जाम होता है
वाँ ये आजिज़ मुदाम होता है

हम तो इक हर्फ़ के नहीं मम्नून
कैसा ख़त्त-ओ-पयाम होता है

तेग़ नाकामों पे न हर दम खींच
इक करिश्मे में काम होता है

पूछ मत आह आशिक़ों की मआश
रोज़ उन का भी शाम होता है

ज़ख़्म बिन ग़म बिन और ग़ुस्सा बिन
अपना खाना हराम होता है

शैख़ की सी ही शक्ल है शैतान
जिस पे शब एहतेलाम होता है

क़त्ल को मैं कहा तो उठ बोला
आज कल सुब्ह-ओ-शाम होता है

आख़िर आऊँगा ना'श पर अब आह
कि ये आशिक़ तमाम होता है

'मीर' साहब भी उस के हाँ थे पर
जैसे कोई ग़ुलाम होता है

- Meer Taqi Meer
1 Like

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari