ka'be mein jaan-b-lab the ham doori-e-butaan se | का'बे में जाँ-ब-लब थे हम दूरी-ए-बुताँ से - Meer Taqi Meer

ka'be mein jaan-b-lab the ham doori-e-butaan se
aaye hain phir ke yaaro ab ke khuda ke haan se

tasveer ke se taair khaamosh rahte hain ham
jee kuchh uchat gaya hai ab naala o fugaan se

jab kaundati hai bijli tab jaanib-e-gulistaan
rakhti hai chhed mere khaashaak-e-aashiyaaan se

kya khoobi us ke munh ki ai guncha naql kariye
tu to na bol zalim boo aati hai wahan se

aankhon hi mein rahe ho dil se nahin gaye ho
hairaan hoon ye shokhi aayi tumhein kahaan se

sabzaan-e-baagh saare dekhe hue hain apne
dilchasp kahe ko hain us bewafa jawaan se

ki shust-o-shobdan ki jis din bahut si un ne
dhoye the haath main ne us din hi apni jaan se

khaamoshi hi mein ham ne dekhi hai maslahat ab
har yak se haal dil ka muddat kaha zabaan se

itni bhi bad-mizaaji har lahza meer tum ko
uljhaav hai zameen se jhagda hai aasmaan se

का'बे में जाँ-ब-लब थे हम दूरी-ए-बुताँ से
आए हैं फिर के यारो अब के ख़ुदा के हाँ से

तस्वीर के से ताइर ख़ामोश रहते हैं हम
जी कुछ उचट गया है अब नाला ओ फ़ुग़ाँ से

जब कौंदती है बिजली तब जानिब-ए-गुलिस्ताँ
रखती है छेड़ मेरे ख़ाशाक-ए-आशियाँ से

क्या ख़ूबी उस के मुँह की ऐ ग़ुंचा नक़्ल करिए
तू तो न बोल ज़ालिम बू आती है वहाँ से

आँखों ही में रहे हो दिल से नहीं गए हो
हैरान हूँ ये शोख़ी आई तुम्हें कहाँ से

सब्ज़ान-ए-बाग़ सारे देखे हुए हैं अपने
दिलचस्प काहे को हैं उस बेवफ़ा जवाँ से

की शुस्त-ओ-शोबदन की जिस दिन बहुत सी उन ने
धोए थे हाथ मैं ने उस दिन ही अपनी जाँ से

ख़ामोशी ही में हम ने देखी है मस्लहत अब
हर यक से हाल दिल का मुद्दत कहा ज़बाँ से

इतनी भी बद-मिज़ाजी हर लहज़ा 'मीर' तुम को
उलझाव है ज़मीं से झगड़ा है आसमाँ से

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Tasweer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Tasweer Shayari Shayari