mohabbat ka jab roz bazaar hoga | मोहब्बत का जब रोज़ बाज़ार होगा - Meer Taqi Meer

mohabbat ka jab roz bazaar hoga
bikenge sar aur kam khareedaar hoga

tasalli hua sabr se kuchh main tujh bin
kabhi ye qayamat tarhdaar hoga

saba moo-e-zulf us ka toote to dar hai
ki ik waqt mein ye siyah-maar hoga

mera daant hai tere honton pe mat pooch
kahunga to ladne ko taiyyaar hoga

na khaali rahegi meri jaagah gar main
na hoonga to andoh bisaar hoga

ye mansoor ka khoon-e-naahq ki haq tha
qayamat ko kis kis se khudaar hoga

ajab shaikh-ji ki hai shakl-o-shamaail
milega to soorat se bezaar hoga

na ro ishq mein dasht-gardi ko majnoon
abhi kya hua hai bahut khwaar hoga

khinche ahad-e-khat mein bhi dil teri jaanib
kabhu to qayamat tarhdaar hoga

zameengir ho izz se tu ki ik din
ye deewaar ka saaya deewaar hoga

na mar kar bhi chhootega itna rukega
tire daam mein jo girftaar hoga

na pooch apni majlis mein hai meer bhi yaa
jo hoga to jaise gunahgaar hoga

मोहब्बत का जब रोज़ बाज़ार होगा
बिकेंगे सर और कम ख़रीदार होगा

तसल्ली हुआ सब्र से कुछ मैं तुझ बिन
कभी ये क़यामत तरहदार होगा

सबा मू-ए-ज़ुल्फ़ उस का टूटे तो डर है
कि इक वक़्त में ये सियह-मार होगा

मिरा दाँत है तेरे होंटों पे मत पूछ
कहूँगा तो लड़ने को तय्यार होगा

न ख़ाली रहेगी मिरी जागह गर मैं
न हूँगा तो अंदोह बिसयार होगा

ये मंसूर का ख़ून-ए-नाहक़ कि हक़ था
क़यामत को किस किस से ख़ूँदार होगा

अजब शैख़-जी की है शक्ल-ओ-शमाइल
मिलेगा तो सूरत से बेज़ार होगा

न रो इश्क़ में दश्त-गर्दी को मजनूँ
अभी क्या हुआ है बहुत ख़्वार होगा

खिंचे अहद-ए-ख़त में भी दिल तेरी जानिब
कभू तो क़यामत तरहदार होगा

ज़मींगीर हो इज्ज़ से तू कि इक दिन
ये दीवार का साया दीवार होगा

न मर कर भी छूटेगा इतना रुकेगा
तिरे दाम में जो गिरफ़्तार होगा

न पूछ अपनी मज्लिस में है 'मीर' भी याँ
जो होगा तो जैसे गुनहगार होगा

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Child labour Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Child labour Shayari Shayari