har zee-hayaat ka hai sabab jo hayaat ka | हर ज़ी-हयात का है सबब जो हयात का - Meer Taqi Meer

har zee-hayaat ka hai sabab jo hayaat ka
nikle hai jee hi us ke liye kaayenaat ka

bikhri hai zulf us rukh-e-aalam-firoz par
warna banaao hove na din aur raat ka

dar-parda vo hi maani muqawwam na hon agar
soorat na pakde kaam falak ke sabaat ka

hain mustaheel khaak se ajzaa-e-nav-khataan
kya sahal hai zameen se nikalna nabaat ka

mustahalk us ke ishq ke jaanen hain qadar-e-marg
eesa-o-khizr ko hai maza kab wafaat ka

ashjaar hovein khaama-o-aab-e-siyah-bihaar
likhna na to bhi ho sake us ki sifaat ka

us ke farogh-e-husn se jhumke hai sab mein noor
sham-e-haram ho ya ki diya somnaat ka

bizzat hai jahaan mein vo maujood har jagah
hai deed chashm-e-dil ke khule ain zaat ka

har safhe mein hai mahv-e-kalaam apna das jagah
musahaf ko khol dekh tak andaaz baat ka

ham muzannibon mein sirf karam se hai guftugoo
mazkoor zikr yaa nahin saum-o-salaat ka

kya meer tujh ko naama-siyaahi ka fikr hai
khatm-e-rusul sa shakhs hai zaamin najaat ka

हर ज़ी-हयात का है सबब जो हयात का
निकले है जी ही उस के लिए काएनात का

बिखरी है ज़ुल्फ़ उस रुख़-ए-आलम-फ़रोज़ पर
वर्ना बनाओ होवे न दिन और रात का

दर-पर्दा वो ही मा'नी मुक़व्वम न हों अगर
सूरत न पकड़े काम फ़लक के सबात का

हैं मुस्तहील ख़ाक से अज्ज़ा-ए-नव-ख़ताँ
क्या सहल है ज़मीं से निकलना नबात का

मुस्तहलक उस के इश्क़ के जानें हैं क़दर-ए-मर्ग
ईसा-ओ-ख़िज़्र को है मज़ा कब वफ़ात का

अश्जार होवें ख़ामा-ओ-आब-ए-सियह-बेहार
लिखना न तो भी हो सके उस की सिफ़ात का

उस के फ़रोग़-ए-हुस्न से झुमके है सब में नूर
शम-ए-हरम हो या कि दिया सोमनात का

बिज़्ज़ात है जहाँ में वो मौजूद हर जगह
है दीद चश्म-ए-दिल के खुले ऐन ज़ात का

हर सफ़्हे में है महव-ए-कलाम अपना दस जगह
मुसहफ़ को खोल देख टक अंदाज़ बात का

हम मुज़न्निबों में सिर्फ़ करम से है गुफ़्तुगू
मज़कूर ज़िक्र याँ नहीं सौम-ओ-सलात का

क्या 'मीर' तुझ को नामा-स्याही का फ़िक्र है
ख़त्म-ए-रुसुल सा शख़्स है ज़ामिन नजात का

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari